Top
undefined
Breaking

कोरोना की मार सोने पर भी, गोल्ड की मांग में आई 36 फीसदी की कमी

जनवरी से मार्च की तिमाही में भारत में गोल्ड की मांग में 36 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है. जनवरी-मार्च की तिमाही में सोने की मांग घटकर 102 टन रह गई.

कोरोना की मार सोने पर भी, गोल्ड की मांग में आई 36 फीसदी की कमी


नई दिल्ली। इस साल जनवरी से मार्च की तिमाही में भारत में गोल्ड की मांग में 36 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है. इस दौरान ज्वैलरी और सोने में निवेश, दोनों की मांग में कमी आई है. एक रिपोर्ट के अनुसार, सोने की कीमतों में जबरदस्त तेजी, आर्थिक अनिश्चितताओं और कोरोना देशव्‍यापी लॉकडाउन के कारण जनवरी-मार्च की तिमाही में सोने की मांग घटकर 102 टन रह गई.

ज्वैलरी की मांग में 41 फीसदी की गिरावट

जानकारों का कहना है कि जून तिमाही में हालत इससे भी खराब हो सकती है. वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल (WGC) की पहली तिमाही के गोल्‍ड डिमांड ट्रेंड्स रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी से मार्च के दौरान ज्वैलरी की मांग में 41 फीसदी की जबरदस्त गिरावट आई है. यह 11 साल के निचले स्तर 73.9 टन पर पहुंच गई.

इस दौरान निवेश के लिए सोने की मांग 17 फीसदी गिरकर 28.1 टन तक रही. इस तरह मार्च तिमाही के दौरान कुल सोने की मांग महज 102 टन रही, जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह 159 टन थी. इस दौरान वैश्विक गोल्ड डिमांड सिर्फ 1 फीसदी बढ़कर 1,083.8 टन पहुंच गई.

मूल्‍य के हिसाब से पहली तिमाही के दौरान भारत में सोने की मांग 20 फीसदी घटकर 37,580 करोड़ रुपये की रही जो 2019 की समान अवधि में 47,000 करोड़ रुपये की थी.

तीन महीने में 25 फीसदी बढ़ गई सोने की कीमत

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक WGC India के मैनेजिंग डायरेक्‍टर सोमसुंदरम ने कहा कि इस साल की पहली तिमाही के दौरान सोने की कीमतों में 25 फीसदी का उछाल आया और इसकी औसत कीमत 36,875 रुपये प्रति 10 ग्राम पहुंच गई. इसमें कस्‍टम ड्यूटी और टैक्‍स को नहीं जोड़ा गया है.उन्होंने बताया कि 2019 की समान अवधि में सोने की औसत कीमत 29,555 रुपये प्रति 10 ग्राम थी.

Next Story
Share it
Top