Top
undefined
Breaking

कोरोना को भगाने के लिए 21 देशों में एक साथ हुआ ऑनलाइन सुंदरकांड पाठ

कोरोना को भगाने के लिए 21 देशों में एक साथ हुआ ऑनलाइन सुंदरकांड पाठ

नई दिल्ली. कोरोना आपदा को दूर करने के लिए पंडित नरोत्तम लाल सेवा संस्थान के तत्वावधान में लॉकडाउन के दौरान चल रही महापूजा के क्रम में शनिवार को सोशल मीडिया पर ऑनलाइन सुंदरकांड पाठ का आयोजन किया गया। जिसमें विश्व के लगभग 21 देशों में हजारों हिन्दू भक्तों ने एक साथ आचार्य मृदुलकांत शास्त्री के आह्वान पर ऑनलाइन जुड़कर सुंदरकांड के 1008 से अधिक पाठ किए।

उन्होंने बताया कि इस अभियान में कोविड-19 वायरस से मुक्ति हेतु भगवान से प्रार्थना की जा रही है। दावा किया कि विश्व इतिहास में अब तक कि सबसे बड़ी डिजिटल ऑनलाइन पाठ श्रृंखला तब फलीभूत हुई जब लॉकडाउन के नियमों का अनुपालन करते हुए अपने-अपने घरों में बैठकर प्रमुख संत-महापुरुषों के सान्निध्य में 10 हजार से अधिक भक्तों ने एक साथ सुंदरकांड के पाठ किए। जिसमें विश्व के प्रसिद्ध हनुमान विग्रहों के साथ-साथ विशिष्ट संतों और राजनेताओं ने भी फेसबुक व यूट्यूब पर ऑनलाइन जुड़कर पाठ किए।

ये संत-महापु्रुष एवं राजनैतिक हस्तियां रहीं ऑनलाइन

जगद्गुरू शंकराचार्य वासुदेवानंद सरस्वती, जगद्गुरु निम्बार्काचार्य श्यामशरण देवाचार्य, साध्वी ऋतंभरा, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास महंत राजेन्द्र दास, बाबा बलराम दास देवाचार्य, स्वामी ज्ञानानंद, स्वामी गोपाल शरण देवाचार्य, श्री रामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी स्वामी सत्येंद्र दास, आरएसएस के सहसर कार्यवाह डा. कृष्णगोपाल, भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा, धर्मार्थ कार्य मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण, उप्र व्यापारी कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष रविकांत गर्ग, महंत सुतीक्ष्ण दास, फूलडोलबिहारी दास, सुंदर दास, स्वामी महेशानंद सरस्वती, स्वामी गोविंदानंद तीर्थ, मदनमोहन दास, महंत मोहिनीशरण, हरिबोल बाबा, स्वामी नवल गिरी जी आदि संत, धर्माचार्य एवं भागवत प्रवक्ताओं ने फेसबुक एवं यूट्यूब पर ऑनलाइन रह कर सुंदर कांड का पाठ किया।

इन देशों में रह रहे भक्त भी जुड़े

विश्व के 21 देशों में मुख्य रूप से अमेरिका, कनाडा, यूके, घाना, मॉरिशस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, हांगकांग, म्यांमार आदि देशों के सैकड़ों हिन्दू भक्तों द्वारा भी सुंदरकांड का पाठ किया गया।

Next Story
Share it
Top