Top
undefined
Breaking

कोरोना वायरस से भारतीय मूल के सिलेब्रिटी शेफ फ्लॉएड कार्डोज की मौत, मुंबई में इसी महीने दी थी पार्टी

कोरोना वायरस से भारतीय मूल के सिलेब्रिटी शेफ फ्लॉएड कार्डोज की मौत, मुंबई में इसी महीने दी थी पार्टी

न्यूयॉर्क . कोरोना वायरस की चपेट में दुनिया की कई बड़ी हस्तियां आ चुकी हैं। इस खतरनाक वायरस से इन्फेक्शन होने पर भारतीय मूल के सिलेब्रिटी शेफ फ्लॉएड कार्डोज की जान चली गई। वह 59 साल के थे। न्यू जर्सी में रहने वाले कार्डोज 19 मार्च को कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए गए थे। चिंता की बात यह है कि फ्लॉएड इसी महीने मुंबई आए थे और यहां उन्होंने एक पार्टी भी दी थी। ऐसे में उस पार्टी में आए लोगों की चिंता भी बढ़ सकती है। अमेरिका में अब तक कोरोना वायरस से 773 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि भारत में इससे 10 लोगों की जान गई है।

मुंबई की पार्टी में 200 लोग पहुंचे थे

फ्लॉएड के न्यू यॉर्क में शेज फ्लॉएड, बॉम्बे कैंटीन और ओ पेड्रो नाम के रेस्तरां हैं। मुंबई और गोवा में भी फ्लॉएड के रेस्तरां हैं। वह इसी साल मार्च में मुंबई भी आए थे और यहां उन्होंने एक पार्टी भी दी थी जिसमें कम से कम 200 लोग आए थे। वापस जाने के बाद फ्लॉएड को न्यू यॉर्क में वायरल फीवर की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बाद में टेस्टिंग होने पर वह कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद उनके संपर्क में आए लोगों की जानकारी जुटाई गई।

न्यूयॉर्क में खराब हैं हालात

अमेरिका में अब तक 54,428 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं और 773 लोगों की जान जा चुकी है। यहां सबसे खराब हालत न्यू यॉर्क में है जहां 26,430 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं जबकि 271 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, न्यू जर्सी में 3,675 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं और 44 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में मंगलवार को 197 लोगों की मौत हो गई थी जो अब तक एक दिन में हुई मौतों की सबसे ज्यादा संख्या है।

संकट में अमेरिका, ट्रंप बिजनस चालू करने को तैयार

वर्ल्ड स्वास्थ्य संगठन की प्रवक्ता मार्ग्रेट हैरिस ने मंगलवार को ही संकेत दिए थे कि अमेरिका अगला इटली बन सकता है। मार्ग्रेट से पूछा गया था कि क्या अमेरिका कोरोना वायरस का अगला केंद्र बन सकता है तो उन्होंने कहा था कि अमेरिका में जिस तेजी से मामले बढ़ रहे हैं, ऐसा हो सकता है। इससे पहले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि वह सोशल डिस्टेंसिंग की नीति पर दोबारा सोचेंगे और जल्द ही अमेरिका को बिजनस के लिए खोल देंगे।

Next Story
Share it
Top