छत्तीसगढ़
जूनियर डाॅक्टरों ने शुरू की चरणबद्ध हड़ताल, मरीज परेशान
By Swadesh | Publish Date: 26/6/2019 5:47:39 PM
जूनियर डाॅक्टरों ने शुरू की चरणबद्ध हड़ताल, मरीज परेशान

रायपुर। अम्बेदकर अस्‍पताल के जूनियर डॉक्टर बुधवार से हड़ताल पर चले गए हैं। जूनियर डॉक्टर ट्रामा सेंटर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम और स्टाइपेंड बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। जूनियर डॉक्टर के हड़ताल पर जाने से प्रदेश के सबसे बड़े अस्‍पताल की सेवा बाधित हो गई है। ओपीडी, ओटी और इमरजेंसी  सुविधाएं बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं । 300 जूनियर डॉक्टरों की सेवाएं बाधित होने से दूरदराज से आए मरीज काफी प्रभावित हुए हैं। 

बताते चलें क‍ि पिछले कई दफा मेडिकल काॅलेज के जूनियर डाॅक्टरों व पीजी रेजिडेंट्स ने स्टाइपेंड की मांग को लेकर सरकार को ज्ञापन सौपा था। सरकार ने जूनियर डाक्टरों की मांग पूरी नहीं की, जिसके बाद अब वे हड़ताल पर जा रहे हैं। उन्होंने पहले ही ऐलान कर दिया था कि अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो वे हड़ताल पर चले जाएंगे। 
 
जूनियर डाॅक्टरों ने सरकार को 48 घंटे का अल्टीमेटम भी दिया था, जिसकी अवधि आज समाप्‍त हो गयी । जूनियर डाक्टरों का कहना है क‍ि बुधवार व गुरुवार को चरणबद्ध तरीके से हड़ताल करेंगे, लेक‍िन मांगें न मानने की सूरत में शुक्रवार से अन‍िश्‍चि‍तकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। 
 
गौरतलब हो क‍ि जूनियर डाक्टरों की स्वास्थ्य मंत्री टी.एस.सिंहदेव से भी मुलाकात हुई थी, लेकिन जूनियर डाक्टरों ने मंत्री से लिखित आश्वासन की मांग कर दी। जूनियर डाॅक्टर लिखित मांग की बात कहकर हड़ताल पर अड़ गए। जूनियर डाॅक्टरों का आरोप है कि वे कई बार स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारीक से मिलने की कोशिश कर चुके हैं। उन्होंने मुलाकात का समय ही नहीं दिया। उनके स्टाॅफ ने कहा कि वे व्यस्त हैं। इससे जूनियर डाॅक्टर खासे नाराज हैं। 
 
उनका कहना है कि मध्यप्रदेश समेत दूसरे राज्यों में जूनियर डाक्टरों का स्टाइपंड बढ़ाया जा चुका है। यहां सरकार इस संबंध में कोई फैसला नहीं ले रही है। इसके अलावा जूनियर डाॅक्टरों की सुरक्षा बढ़ाने की मांग भी कर रहे हैं। उनका कहना है कि ट्रामा सेंटर में आए दिन जूनियर डाॅक्टरों के साथ मारपीट हो रही है, लेकिन प्रबंधन कोई खास इंतजाम नहीं कर पा रहा है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS