छत्तीसगढ़
भारी हंगामे के बीच विधानसभा की कार्यवाही गुरुवार तक स्थगित
By Swadesh | Publish Date: 16/7/2019 6:26:46 PM
भारी हंगामे के बीच विधानसभा की कार्यवाही गुरुवार तक स्थगित

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा की कार्यवाही विपक्षी पार्टियों के भारी हंगामे की वजह से गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई है। मंगलवार को विधानसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी पार्टी विभिन्न मुद्दों को लेकर हंगामा करते रहे। 

हंगामा इतना अधिक हुआ कि सदन को दो बार 10 मिनट के लिए स्थगित करना पड़ा और आखिर में गुरुवार तक के लिए स्थगित कर देनी पड़ी। भाजपा समेत जोगी कांग्रेस तथा बहुजन समाज पार्टी के विधायक भी हंगामे में शामिल रहे। मामला किसानों को लेकर स्थगन प्रस्ताव लाने का था। लेकिन इसे स्वीकार नहीं किया गया।
 
 विपक्षी पार्टियों ने सत्तारूढ़ कांग्रेस सरकार पर किसानों के साथ धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते रहे। विपक्ष का आरोप है कि राज्य सरकार ने किसानों के साथ जो किसान कर्ज माफी का वादा किया था, वह पूरा नहीं किया। किसान कर्ज माफी के लिए अभी भी बैंकों के चक्कर काट रहे हैं। हंगामा इतना बढ़ गया कि सभी विपक्षी पार्टी के नेता विधानसभा के गर्भगृह में आ  गए  और नारे लगाने लगे। विपक्षी पार्टी नारा लगा रहे थे-सदन की कार्यवाही नहीं चलेगी। किसानों के संकट पर ध्यान दो। 
 
इसी बीच सत्ता पक्ष के विधायकों ने भी नारा लगाना शुरू कर दिया-15 साल याद करो। सत्ता वक्ष के विधायक भी अपनी सीटों से खड़े होकर विपक्ष का विरोध करने लगे। इसी बीच विधानसभा अध्यक्ष ने गर्भगृह में  नारा लगाने वाले विपक्ष के सभी नेताओं को सदन से निलंबित कर दिया और बाहर जाने की अपील की। 
 
जनता कांग्रेस छ्त्तीसगढ़ (जे), बहुजन समाज पार्टी भी सदन में मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा का साथ देते रहे। इसके बाद पूरा विपक्ष सदन से नारा लगाते हुए वाकआउट कर गया। जिसके बाद विपक्ष की उपस्थिति में उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने तीन विधेयक तथा नगरीय प्रशासन मंत्री शिव डहरिया द्वारा लाया गया एक विधेयक बहुमत के साथ पास हो गया। इसके बाद सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।
 
 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS