देश
मथुरा में पीएम ने कचरा बीनकर सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्ति का किया आह्वान
By Swadesh | Publish Date: 11/9/2019 6:16:40 PM
मथुरा में पीएम ने कचरा बीनकर सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्ति का किया आह्वान

- बटन दबाकर किया 1059 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास-लोकार्पण 
- दो अक्टूबर तक पूरे देश को बनाना है सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त: पीएम 
 
मथुरा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वेटेरिनरी विश्व विद्यालय में बुधवार को आयोजित दो दिवसीय पं. दीनदयाल वृहद पशु आरोग्य मेला एवं स्वच्छता ही सेवा अभियान का शुभारंभ करते हुए नेशनल एनिमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम को भी लॉन्च किया। पशुओं के स्वास्थ्य, पोषण, डेयरी उद्योग और कुछ अन्य परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण बटन दबाकर किया। इससे पूर्व पीएम ने गौ सेवा की तथा टीकाकरण एवं पशु पालकों से मुलाकात की। पशु चिकित्सा और पशुपालन द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का भी पीएम ने अवलोकन किया। 
 
इस दौरान उन्होंने कचरा बीनने वाली महिलाओं एवं सफाईकर्मी महिलाओं के साथ बातचीत की तथा उनके साथ बैठकर कचरा भी बीना। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि स्वच्छता ही सेवा के अभियान में दो अक्टूबर तक पूरे देश को सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त कराना है। प्लास्टिक से होने वाली समस्या समय के साथ गंभीर होती जा रही हैं। प्लास्टिक पशुओं की मौत का कारण बन रही हैं। नदियां, झीलों और तलाबों में रहने वाले जीवों का प्लास्टिक निगलने के बाद जिंदा बचना मुश्किल हो रहा है। सिंगल यूज प्लास्टिक से छुटकारा पाना ही होगा। 
 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बुधवार को 11 बजे मथुरा हैलीपेड पहुंचे। इसके बाद उन्होंने वेटेरिनरी विश्वविद्यालय में आयोजित दो दिवसीय पं. दीनदयाल वृहद पशु आरोग्य मेला का शुभारंभ किया। इसके उपरांत करीब साढ़े 11 बजे पीएम मोदी ने नेशनल एनिमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम लॉन्च किया तथा 1059 करोड़ की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण बटन दबाकर किया। उन्होंने कहा कि भारत के पास भगवान श्रीकृष्ण जैसा प्रेरणास्रोत हमेशा से रहा है, जिनकी कल्पना ही पर्यावरण प्रेम के बिना अधूरी है। प्रकृति, पर्यावरण और पशुधन के बिना जितने अधूरे खुद हमारे आराध्य नजर आते हैं उतना ही अधूरापन हमें भारत में भी नजर आएगा। ओम या गाय शब्द सुनते ही कुछ लोगों के कान खड़े हो जाते हैं। कुछ लोगों के कान में गाय शब्द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं। उनको करंट लग जाता है। उनको लगता है कि देश 16वीं 17वीं सदी में चला गया है। ऐसे लोगों ने ही देश को बर्बाद किया है। 
 
उन्होंने कहा कि प्लास्टिक से कचरे से होने वाली समस्या समय के साथ गंभीर होती जा रही है, प्लास्टिक पशुओं की मौत का कारण बन रही हैं। नदियों, झीलों, तालाबों में रहने वाले जीवों का प्लास्टिक निगलने के बाद जिंदा बचना मुश्किल हो जाता है, हमें सिंगल यूज प्लास्टिक से छुटकारा पाना ही होगा। इस वर्ष 2 अक्टूबर तक अपने घरों, दफ्तरों और कार्यक्षेत्र को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करें। मैं सभी सामाजिक संगठनों और अन्य स्कूलों, क्लबों से, हर व्यक्ति से हृदय पूर्वक आग्रह करता हूं, आप प्लास्टिक का जो कचरा इकट्ठा करेंगे उसे प्रशासन उठाएगा, उसे रिसाइकिल किया जाएगा। जो नहीं हो सकता उसे सीमेंट फैक्ट्रियों या रोड बनाने में प्रयोग किया जाएगा। इस तरह का काम गांव-गांव में किया जाना चाहिए। हमें तय करना होगा कि किसी भी खरीददारी के लिए बाजार जाने पर झोला, थैला, कपड़े का बैग जरूर लेकर जाएं। दुकानदार प्लास्टिक का उपयोग कम से कम करें, सरकारी दफ्तरों या कार्यक्रमों में मेटल या मिट्टी के बर्तनों की व्यवस्था होगी तो पूरा देश स्वस्थ्य होगा। 
 
जल संकट और पशु पालन पर भी बोले पीएम मोदी
जल जीवन मिशन के तहत हर घर जल पहुंचाने पर बल दिया जा रहा है। इससे किसानों और हमारी माताओं-बहनों को सुविधा मिलेगी। किसानों की आय बढ़ाने में पशुपालन, मुर्गी, मत्स्य पालन का महत्वपूर्ण योगदान है।हमने बीते 5 साल में डेयरी प्रोडक्ट के विस्तार के लिए कई कदम उठाए हैं। इस वर्ष कामधेनु आयोग बनाने का निर्णय लिया। किसानों पशु-पालकों की आय में 13 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई।
 
कचरा बीनने वाली महिलाओं के साथ बैठे पीएम 
मथुरा में पशुधन मेला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने प्लास्टिक रिसाइकिल मशीन की प्रस्तुति की गई। इस दौरान प्लास्टिक का कचरा उठाने वाली महिलाएं मौजूद थीं। पीएम मोदी उनके बीच जाकर बैठ गए और उनके साथ मिलकर कचरे को अपने हाथों से अलग किया। महिलाओं से इस बारे में बातचीत भी की। उन्होंने सफाईकर्मी महिलाओं से मुलाकात कर उनसे सफाई व्यवस्था की जानकारी हासिल की। 
 
राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण और कृत्रिम गर्भाधान के जरिए 51 करोड़ पशुओं लगेंगे टीके 
पीएम ने कहा कि राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम और कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम की शुरुआत की गई है। हमारे पशु बार-बार बीमार न हों, इसीलिए आज 13 हजार करोड़ की योजना की शुरुआत की गई। इससे खुरपका और मुंहपका से निजात मिलेगी। 51 करोड़ गाय-भैंस और अन्य को साल में 2 बार टीके लगेंगे। जिनका टीकाकरण होगा उन्हें यूनिक आईडी देकर कान में टैग लगाया जाएगा। भारत के डेयरी सेक्टर को विस्तार देने के लिए हमें नई तकनीक की जरूरत है। ये इनोवेशन हमारे ग्रामीण समाज से भी आएं, इसलिए आज स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज की शुरुआत कर रहा हूं।
 
युवाओं से स्टार्ट अप ग्रांड चैलेंज से जुड़ने का किया आह्वान  
पीएम मोदी ने वेटरनेसी विश्वविद्यालय में अपने भाषण में युवाओं से अपील की कि स्टार्टअप ग्रांड चैलेंज के साथ जुड़िये। हमें समाधान खोजना है। हरे चारे की व्यवस्था कैसी हो। प्लास्टिक की थैलियों को सस्ता और सुलभ विकल्प क्या हो सकता है। भारत सरकार आज उस चौलेंज को लांच कर रही है। देश की समस्या का समाधान देश की मिट्टी से ही निकलेगा। 
 
पीएम ने की योगी आदित्यनाथ के कार्य की सराहना  
पीएम मोदी ने कहा कि सरकार की कोशिशों का ही परिणाम है कि मस्तिष्क ज्वर के मुद्दे पर संसद में कोई भी दिन बिना बात किए नहीं जाता था। योगी जी ने इस बीमारी के खिलाफ जिंदगी भर लड़ाई लड़ी, संसद को जगाया। बावजूद इसके कुछ लोगों ने इसे इन्हीं के माथे पर मढ़ दिया। पीएम ने कहा कि योगी जी के आंकड़ों पर देश को जरूर ध्यान देना चाहिए। हमने इस बीमारी से हजारों बच्चे खो दिए, बड़ी ही सफलता के साथ योगी जी की सरकार आगे बढ़ रही है। पीएम मोदी ने कहा कि बच्चों की जिंदगी बचाने के लिए योगी जी को भी बधाई देता हूं। 
 
पशुपालन से बढ़ा है दूध का उत्पादन 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा किसानों की आय बढ़ाने में पशुपालन और दूसरे व्यवसायों की भी बहुत बड़ी भूमिका है। पशुपालन हो, मछली पालन हो या मधुमक्खी पालन, इन पर किया गया निवेश ज्यादा कमाई कराता है। दुधारू पशुओं की गुणवत्ता के लिए पहले राष्ट्रीय गोकुल मिशन शुरू किया गया और इस वर्ष देश पशुओं की उचित देखरेख के लिए कामधेनु आयोग बनाने का निर्णय हुआ। इसी नई एप्रोच का परिणाम है कि 5 साल के दौरान दूध उत्पादन में करीब 7 फीसद की वृद्धि हुई है। किसानों, पशुपालकों की आय में करीब 13 फीसद की वृद्धि दर्ज की गई है।
 
1059 करोड़ की विकास परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास 
लोकार्पण योजनाएं-मथुरा नंदगांव में पर्यटन, सीवर सुदृढ़ीकरण के कार्य, पोतरा कुण्ड मथुरा पर फसाड लाइटिंग एवं म्यूजिकल फाउण्टेन की स्थापना का कार्य, आगरा एवं मुरादाबाद में आरआईडीएफ योजना से बने पशु चिकित्सा हेतु पॉलीक्लीनिक, आरआईडीएफ नाबार्ड के अंतर्गत बने पशु चिकित्सालय, रोग निदान प्रयोगशाला एवं वृहद गो संरक्षण केन्द्र (कुल संख्या-165)। वर्गीकृत वीर्य उत्पादन केन्द्र, बाबूगढ़, हापड़, महिला सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ शाहजहांपुर का शुभारंभ, नोएडा एवं मुरादाबाद डेयरी का पुनर्निर्माण, कन्नौज डेयरी की स्थापना
 
शिलान्यास की जाने वाली परियोजनाएं- मथुरा, नंदगांव, गोवर्धन, छाता, बरसाना में पर्यटन के सुदृढ़ीकरण, सौंदर्यीकरण, जीर्णोद्धार, पुननिर्माण एवं सड़क निर्माण के कार्य, मथुरा में पेयजल पुनर्गठन कार्य एवं स्टॉर्म वाटर ड्रेनेज परियोजनाएं, बीमार पशुओं के इलाज हेतु किसान हेल्पलाइन संजीवनी को समस्त जनपदों में लागू किया जाना, मथुरा डेयरी प्लांट के उत्पादन क्षमता को 60 हजार लीटर प्रतिदिन से बढ़ाकर 01 लाख लीटर प्रतिदिन किया जाना, वर्गीकृत वीर्य उत्पादन केन्द्र, बाबूगढ़, हापड़ का विस्तारीकरण, बांदा डेयरी की स्थापना (बुंदेलखंड पैकेज के अंतर्गत), गोवर्धन परिक्रमा हेतु गिर्राज जी के चारों ओर सड़क के नवनिर्माण का कार्य। 
 
मंच पर ये रहे मौजूद
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मंत्री पशुपालन-डेयरी एवं मत्स्य पालन भारत सरकार गिरिराज सिंह, केन्द्रीय मंत्री जलशक्ति गजेन्द्र सिंह शेखावत, दुग्ध विकास मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा, केन्द्रीय पशुपालन डेयरी मंत्री संजीव कुमार बालयान, राज्यमंत्री रतनलाल कटारिया, पशुधन राज्यमंत्री जयप्रकाश निषाद, सांसद हेमामालिनी।  
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS