Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
जम्‍मू-कश्‍मीर : 24 घंटों में लश्‍कर को मिला तीसरा बड़ा झटका, अब कुपवाड़ा से आतंकी हुआ गिरफ्तारगाजियाबाद में गिरी 5 मंजिला इमारत, एक की मौत व कई लोग घायलसुकन्या समृद्धि योजना में सरकार ने किया बदलाव, 1000 नहीं बल्कि 250 रु. करवा सकते हैं जमाबड़बोले नेताओं को राहुल गांधी की चेतावनी: गलत बयानबाजी की तो लूंगा कड़ा एक्शनसूखे से निपटने के लिए सरकार की आपात बैठक, लिये गये कई अहम फैसलेउपराज्यपाल-दिल्ली सरकार विवाद: देश के बड़े वकील करेंगे सुप्रीम कोर्ट में अनिल बैजल का बचावपिता ने नदी में बहा दिया ढाई साल का मासूम, वजह है बेहद अजीबफर्रुखाबाद में बोले योगी: पिछली सरकारों की उपेक्षा का शिकार रहा जनपद
देश
उन्नाव रेप केस : सीबीआई ने दाखिल किया चार्जशीट, भाजपा विधायक सेंगर आरोपी बनाये गये
By Swadesh | Publish Date: 11/7/2018 6:55:40 PM
उन्नाव रेप केस : सीबीआई ने दाखिल किया चार्जशीट, भाजपा विधायक सेंगर आरोपी बनाये गये

नयी दिल्ली/ लखनऊ। उन्नाव रेप केस में सीबीआई ने आज चार्जशीट फाइल किया। इस चार्जशीट में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को नामजद आरोपी बनाया गया है। इस बात की जानकारी आज सीबीआई के एक अधिकारी ने दी। 

गौरतलब है कि इससे पहले सीबीआई ने पीड़िता द्वारा लगाये गये उन आरोपों की पुष्टि कर दी थी जिसमें उसने कहा था कि पिछले साल 4 जून को भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उसका दुष्‍कर्म किया था, जबकि उस दौरान उनकी महिला सहयोगी शशि सिंह कमरे के बाहर पहरा देने का काम कर रही थी। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, पीड़ित लड़की जहां बांगरमऊ के विधायक सेंगर का नाम लेती रही थी, वहीं स्थानीय पुलिस ने 20 जून को दर्ज एफआईआर में विधायक और अन्य आरोपियों के नाम शामिल नहीं किये।  

सीबीआई ने सीआरपीसी की धारा 164 के तहत कोर्ट के सामने पीड़िता का बयान दर्ज किया जिसमें वह अपने आरोपों से पीछे नहीं हटी। सीबीआई के एक अधिकारी ने मामले के संबंध में जानकारी दी कि पुलिस ने लड़की की मेडिकल जांच में भी देरी की और लड़की के वजाइनल स्वैब और कपड़ों को फरेंसिक लैब भेजने से परहेज किया। उन्होंने कहा कि यह सबकुछ जानबूझकर और आरोपियों की मिलीभगत से हुआ। 

सेंगर, शशि सिंह और अन्य आरोपियों को सीबीआई ने इस साल 13-14 अप्रैल को ही गिरफ्तार किया था। सीबीआई ने उनसे पूछताछ की। साथ ही सीबीआई विधायक के साथ पुलिस की सांठगांठ का भी पता लगाने की कोशिश कर रही है। पीड़िता द्वारा शिकायत दर्ज कराने और उसके पिता की मौत पुलिस कस्टडी में हो गयी थी जिसके बाद मामले ने राजनीतिक रूप ले लिया था जिसके बाद योगी सरकार ने मामले की जांच की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंप दी थी।

COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS