Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पीएमओ प्रवक्ता जगदीश ठक्कर का निधन, प्रधानमंत्री ने परिजनों से मुलाकात कर जताया शोकशिक्षा ही अच्छे व्यक्ति व समाज के निर्माण की आधारशिला-राष्ट्रपति कोविंदसुप्रीम कोर्ट ने केरल के 'लव जिहाद' मामले में एनआईए की रिपोर्ट लौटाईअन्याय, भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी एनएपीएम : ऊषाजम्मू एवं कश्मीर विस को भंग करने के राज्यपाल के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिजनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसलोकपाल के सेलेक्शन पैनल में विपक्ष के नेता को शामिल करने के लिए याचिका
देश
उन्नाव रेप केस : सीबीआई ने दाखिल किया चार्जशीट, भाजपा विधायक सेंगर आरोपी बनाये गये
By Swadesh | Publish Date: 11/7/2018 6:55:40 PM
उन्नाव रेप केस : सीबीआई ने दाखिल किया चार्जशीट, भाजपा विधायक सेंगर आरोपी बनाये गये

नयी दिल्ली/ लखनऊ। उन्नाव रेप केस में सीबीआई ने आज चार्जशीट फाइल किया। इस चार्जशीट में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को नामजद आरोपी बनाया गया है। इस बात की जानकारी आज सीबीआई के एक अधिकारी ने दी। 

गौरतलब है कि इससे पहले सीबीआई ने पीड़िता द्वारा लगाये गये उन आरोपों की पुष्टि कर दी थी जिसमें उसने कहा था कि पिछले साल 4 जून को भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उसका दुष्‍कर्म किया था, जबकि उस दौरान उनकी महिला सहयोगी शशि सिंह कमरे के बाहर पहरा देने का काम कर रही थी। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, पीड़ित लड़की जहां बांगरमऊ के विधायक सेंगर का नाम लेती रही थी, वहीं स्थानीय पुलिस ने 20 जून को दर्ज एफआईआर में विधायक और अन्य आरोपियों के नाम शामिल नहीं किये।  

सीबीआई ने सीआरपीसी की धारा 164 के तहत कोर्ट के सामने पीड़िता का बयान दर्ज किया जिसमें वह अपने आरोपों से पीछे नहीं हटी। सीबीआई के एक अधिकारी ने मामले के संबंध में जानकारी दी कि पुलिस ने लड़की की मेडिकल जांच में भी देरी की और लड़की के वजाइनल स्वैब और कपड़ों को फरेंसिक लैब भेजने से परहेज किया। उन्होंने कहा कि यह सबकुछ जानबूझकर और आरोपियों की मिलीभगत से हुआ। 

सेंगर, शशि सिंह और अन्य आरोपियों को सीबीआई ने इस साल 13-14 अप्रैल को ही गिरफ्तार किया था। सीबीआई ने उनसे पूछताछ की। साथ ही सीबीआई विधायक के साथ पुलिस की सांठगांठ का भी पता लगाने की कोशिश कर रही है। पीड़िता द्वारा शिकायत दर्ज कराने और उसके पिता की मौत पुलिस कस्टडी में हो गयी थी जिसके बाद मामले ने राजनीतिक रूप ले लिया था जिसके बाद योगी सरकार ने मामले की जांच की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंप दी थी।

COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS