देश
अखिलेश ने कन्नौज में लगाई ई-चौपाल, गाय लोन पर ब्याज माफी का ऐलान
By Swadesh | Publish Date: 11/1/2019 5:39:24 PM
अखिलेश ने कन्नौज में लगाई ई-चौपाल, गाय लोन पर ब्याज माफी का ऐलान

कन्नौज। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कन्नौज के फकीरपुरा गांव में ई-चौपाल लगाई। ई-चौपाल में अखिलेश ने भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि भाजपा ने सिर्फ नाम बदलने का काम किया है और उनका धोखा बोलता है। समाजवादी पार्टी की रथयात्रा को लेकर पूछे गए सवाल पर अखिलेश ने कहा कि फरवरी-मार्च के अंत में लोकसभा चुनाव की तारीख घोषित हो सकती है। अब रथ यात्रा को लेकर समय नहीं बचा है। 

 
भाजपा से डर के कारण सपा-बसपा गठबंधन के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि हम जनता को यह नहीं समझा पाए कि भाजपा ने कितने गठबंधन किए हैं। आज कई पार्टियां उनका साथ छोड़ चुकी हैं। हम अपना गणित सही करने की कोशिश कर रहे हैं और इसका नतीजा गोरखपुर उपचुनाव में भी दिखा। हम किसी के खिलाफ नहीं है। भाजपा ने जो गिनती ठीक कराना सिखाया, हम उसी रास्ते पर चल रहे हैं। 
 
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर हमारी सरकार आई तो हम गाय लोन पर ब्याज माफ करेंगे। व्यापारियों के पक्ष में बोलते हुए अखिलेश ने कहा कि हम दूध व्यापारियों को ऑन स्पॉट पैसे देंगे। 
 
अखिलेश ने कहा कि इत्र के उद्गम स्थल कन्नौज में देश के पहले माइक्रो ग्रिड सक्षम गांव फकीरपुरवा में ई-चौपाल कार्यक्रम में हम ट्विटर इंडिया का स्वागत करते हैं। ट्विटर पर लाइव चौपाल सवाल-जवाब सीरीज के साथ हुआ। इस दौरान अखिलेश यादव चौपाल ऑन ट्विटर के प्लेटफॉर्म पर जनता के सवालों का जवाब देने के लिए जुड़े रहे। ई-चौपाल के दौरान ट्विटर के उपाध्यक्ष कॉलिंग क्रोवेल भी उपस्थित रहे।
 
बताते चलें कि ई-चौपाल 100 फीसदी सौर ऊर्जा वाले गांव के रूप में चर्चित फकीरपुरवा में लगाई गई। इसमें ट्विटर इंडिया की टीम भी मौजूद रही। फकीरपुरवा देश का पहला माइक्रो ग्रिड सक्षम गांव है जिसका उद्घाटन पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने किया था। सपा मुखिया अखिलेश इस बार खुद कन्नौज से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले हैं। अभी यहां से उनकी पत्नी डिम्पल यादव सांसद हैं। अखिलेश खुद भी कन्नौज से सांसद रहे हैं। इसलिए उन्होंने इस अभियान की शुरुआत यहीं से करने की ठानी। इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव में व्हाट्सएप और फेसबुक के साथ ही सोशल मीडिया का ट्विटर प्लेटफॉर्म भी काफी अहम होने जा रहा है। सर्वाधिक युवा मतदाता होने के नाते भी सोशल मीडिया पर खास जोर दिया जा रहा है। छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और राजस्थान विधानसभा के चुनावों में भी सियासी संदेश देने के लिए ट्विटर का काफी इस्तेमाल हुआ है। ट्विटर इंडिया ने लोकसभा चुनाव को देखते हुए इलेक्शन ऑन ट्विटर की नई पहल शुरू की है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS