Ad
मध्य प्रदेश
लोस मतगणना रुझान: सिंधिया पर मंडरा रहा हार का खतरा, एक लाख वोटों से पीछे
By Swadesh | Publish Date: 23/5/2019 5:53:07 PM
लोस मतगणना रुझान: सिंधिया पर मंडरा रहा हार का खतरा, एक लाख वोटों से पीछे

गुना/भोपाल। कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया की लोकसभा सीट खतरे में नजर आ रही है। वे अपने निकटतम प्रतिद्वंदी भाजपा के के.पी.यादव से एक लाख से अधिक वोटों से पिछड़ रहे हैं। सिंधिया के अलावा प्रदेश कांग्रेस के अन्य दिग्गज नेताओं की सीट भी मुसीबत में है।

 
मध्यप्रदेश की हाई प्रोफाइल सीटों में से एक गुना लोक सभा क्षेत्र में शुरूआती रुझान कांग्रेस के पक्ष में नहीं आ रहे हैं। दोपहर दो बजे तक की मतगणना के अनुसार ज्योतिरादित्य सिंधिया यहां से पीछे चल रहे हैं। सिंधिया भाजपा उम्मीदवार केपी यादव से करीब एक लाख वोटों से पीछे चल रहे हैं। इस सीट पर छठे चरण में 12 मई को वोटिंग हुई थी, जिसमें क्षेत्र के कुल 1674676 वोटरों में से 70.02 फीसदी ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। 
 
भाजपा उम्मीदवार के.पी. यादव शुरुआती बढ़त से काफी खुश हैं। उनका कहना है कि ये चुनाव जनता लड़ रही है और  सबको पता है मोदी देश के विकास में क्या क्या काम किए हैं। सबका एक ही मकसद है नरेंद्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाना। आपको बता दें कि गुना लोकसभा सीट सिंधिया परिवार का गढ़ है और ज्योतिरादित्य सिंधिया पिछले 4 चुनावों से इस सीट पर जीत हासिल करते आए हैं।

अन्य दिग्गज भी खतरे में
ज्योतिरादित्य सिंधिया के अलावा प्रदेश कांग्रेस के अन्य दिग्गज भी खतरे में हैं। भोपाल से कांग्रेस के उम्मीदवार पूर्व मुख्यंमत्री दिग्विजयसिंह भाजपा की साध्वी प्रज्ञा से 166761 वोटों से पीछे चल रहे हैं। राज्यसभा सांसद और जबलपुर से चुनाव लड़ रहे विवेक तन्खा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेशसिंह से 3 लाख से अधिक वोटों से पीछे हैं। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव भाजपा के नंदकुमारसिंह चौहान से 243848 वोटों से पीछे हैं। कांग्रेस के दिग्गज नेता अजयसिंह सीधी से भाजपा की उम्मीदवार रीति पाठक से 167000 वोटों से पीछे हैं। वहीं, रतलाम से कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया भी 1 लाख से अधिक वोटों से पीछे हैं। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS