मध्य प्रदेश
डीआरएम आफिस में लगी भीषण आग, फाइल व आवश्यक दस्तावेज खाक
By Swadesh | Publish Date: 23/3/2019 5:30:45 PM
डीआरएम आफिस में लगी भीषण आग, फाइल व आवश्यक दस्तावेज खाक

जबलपुर। पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में शनिवार की सुबह दूसरी मंजिल स्थित बिजली विभाग के आफिस में भीषण आग लग गई| जब तक कर्मचारी कुछ समझ पाते, पूरे विभाग की फाइलें, कम्प्यूटर, सहित अन्य जरूरी दस्तावेज, फर्नीचर सहित पूरा विभाग खाक हो गया। नगर निगम के दमकल विभाग की तीन गाडिय़ों ने मौके पर पहुंचकर आग को काबू में कर अन्य विभागों में फैलने से रोका। इस घटना की जाँच के लिए डीआरएम ने उच्चस्तरीय जांच कमेटी गठित कराने की घोषणा की है।

घटना के बारे में बताया गया है कि शनिवार होने के कारण मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय जबलपुर में अवकाश था, लेकिन जरूरी कामकाज निपटाने के लिए अधिकारी और कुछ कर्मचारी आते हैं, इसी दौरान मंडल अभियंता विद्युत सामान्य आफिस का प्यून कार्यालय पहुंचा और उसने मेन स्विच ऑन किया| स्विच चालू होते ही कार्यालय के मुख्य हाल में आतिशबाजी जैसी बिजली की तार जलने लगी, जिससे भगदड़ मच गई| जब तक कोई कुछ समझ पाता, पूरा बिजली कार्यालय धूं-धूंकर जलने लगा| जैसे ही घटना की जानकारी लगी, वैसे ही स्थानीय स्तर पर कर्मचारियों ने आग को बुझाने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली| इसी दौरान डीआरएम डा. मनोज सिंह, डीएससी अनिल भालेराव सहित तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे। सूचना पाकर नगर निगम दमकर विभाग के तीन वाहन भी मौके पर पहुंचे और आग पर नियंत्रण पाने का प्रयास किया, लेकिन जब तक आग बुझ पाती तब तक पूरा बिजली विभाग रख खाक हो चुका था।
 
जानकारी मिली है कि डीआरएम आफिस की जिस दूसरी मंजिल में आग लगी, इसके नीचे की पहली मंजिल में कार्मिक विभाग का आफिस है, जहां पर पूरे मंडल के रेल कर्मचारियों का सर्विस रिकार्ड था, आग यदि वहां पहुंच जाती तो बहुत बड़े नुकसान से इंकार नहीं किया जा सकता|रेलवे को इस आग की घटना में करोड़ों के नुकसान की आशंका जताई जा रही है, जिसमें दर्जनों कम्प्यूटर, फर्नीचर, विद्युत उपकरण तो शामिल हैं ही साथ ही लगभग 80 से 100 साल पुराने मंडल के रिकार्ड हैं, जो फाइलों में थे, सभी नष्ट हो चुके है| इस मामले में डीआरएम डा. मनोज कुमार सिंह ने चार अफसरों की जांच टीम गठित की है, जो एक सप्ताह में घटना के कारणों की रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी|
 
इस टीम में मंडल संरक्षा आयुक्त, मंडल सुरक्षा अधिकारी, मंडल विद्युत अभियंता, मंडल अभियंता मुख्यालय शामिल हैं| आश्चर्य की बात तो यह है कि स्विच आन करते ही एक साथ पूरे कार्यालय में आग कैसे भड़क गई| डीआरएम डा. सिंह का कहना है कि इस बात की भी जांच की जायेगी कि कहीं यह घटना किसी साजिश का हिस्सा तो नहीं है| फिलहाल कुछ कहा नहीं जा सकता| किसी साजिश की बात जांच रिपोर्ट के बाद ही स्पष्ट होगी|
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS