Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पीएमओ प्रवक्ता जगदीश ठक्कर का निधन, प्रधानमंत्री ने परिजनों से मुलाकात कर जताया शोकशिक्षा ही अच्छे व्यक्ति व समाज के निर्माण की आधारशिला-राष्ट्रपति कोविंदसुप्रीम कोर्ट ने केरल के 'लव जिहाद' मामले में एनआईए की रिपोर्ट लौटाईअन्याय, भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी एनएपीएम : ऊषाजम्मू एवं कश्मीर विस को भंग करने के राज्यपाल के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिजनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसलोकपाल के सेलेक्शन पैनल में विपक्ष के नेता को शामिल करने के लिए याचिका
देश
कांग्रेस का वित्त मंत्री पर पलटवार, 'मोदी सल्तनत के दरबारी विदूषक' बनने को बेताब हैं अरुण जेटली
By Swadesh | Publish Date: 24/9/2018 4:26:00 PM
कांग्रेस का वित्त मंत्री पर पलटवार, 'मोदी सल्तनत के दरबारी विदूषक' बनने को बेताब हैं अरुण जेटली

नई दिल्ली। राहुल गांधी को 'मसखरा शहजादा' बताए जाने पर पलटवार करते हुए कांग्रेस ने गुरुवार को आरोप लगाया कि अरुण जेटली 'मोदी सल्तनत के दरबारी विदूषक' बने रहने के लिए बेताब हैं। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि वित्त मंत्री को विपक्ष के बारे में ऐसी भाषा का इस्तेमाल करने की बजाय असल मुद्दों पर जवाब देना चाहिए। दरअसल, जेटली ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तीखा प्रहार करते हुए उन्हें 'मसखरा शहजादा' बताया और कहा कि वह मोदी सरकार द्वारा 15 उद्योगपतियों का 2।5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने के बारे में 'झूठ' बोल रहे हैं।
 
राहुल गांधी अपनी रैलियों में लगातार मोदी सरकार पर इस तरह के हमले कर रहे हैं। जेटली ने अपने फेसगुक ब्लॉग में राहुल गांधी के इस तरह के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी सरकार ने किसी भी कर्जदार का एक रुपया भी माफ नहीं किया है। वित्त मंत्री के हमले पर पलटवार करते हुए सुरजेवाला ने एक बयान में कहा, 'जेटली 'मोदी सल्तनत के दरबारी विदूषक' बने रहने के लिए बेताब हैं। अभ्रद भाषा बोलना और ध्यान भटकाने का प्रयास हो रहा है।'
 
उन्होंने कहा, 'अपशब्दों के आवरण में छिपने की बजाय वित्त मंत्री को राजनीतिक रूप से प्रासंगिक मुद्दों पर सवालों के जवाब देने चाहिए।' सुरजेवाला ने सवाल किया, 'जब राफेल मामले में घिर गए और फंस गए तो अपशब्दों के पीछे क्यों छिपना? कुछ सांठगांठ वाले उद्योगपतियों को 30 हजार करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाने के लिए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स को दरकिनार क्यों किया?' कांग्रेस नेता ने पूछा, '126 राफेल विमानों की बजाय 36 विमान खरीदकर राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता क्यों किया गया।'
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS