बिज़नेस
मुंद्रा अल्ट्रा मेगा पॉवर प्रोजेक्ट में हाई पॉवर समिति की सिफारिश मंजूरः टाटा पॉवर
By Swadesh | Publish Date: 4/12/2018 1:28:49 PM
मुंद्रा अल्ट्रा मेगा पॉवर प्रोजेक्ट में हाई पॉवर समिति की सिफारिश मंजूरः टाटा पॉवर

मुंबई। टाटा पॉवर कंपनी लिमिटेड की ओर से बाजार नियामक को सूचित किया गया है कि कंपनी ने गुजरात में मुंद्रा अल्ट्रा मेगा पॉवर प्रोजेक्ट के लिए सरकार की ओर से कुछ राहत पाने की उम्मीद की थी। गुजरात सरकार ने हाई पॉवर समिति की सिफारिशों को स्वीकृत कर लिया है। इस प्रस्ताव को मंजूर करने के लिए टाटा पावर ने गुजरात सरकार का स्वागत किया है। मुंद्रा अल्ट्रा मेगा पॉवर प्रोजेक्ट से गुजरात के 15 फीसदी से ज्यादा बिजली जरूरतों को पूरा किया जाता है। 

 
बता दें कि मुंद्रा अल्टा पॉवर प्रोजेक्ट से ही उचित दर पर गुजरात को बिजली आपूर्ति की जाती है। इस पॉवर प्रोजेक्ट से गुजरात की लगभग 15 प्रतिशत आवश्यकताओं को पूरा किया जाता है। गुजरात सरकार ने हाई पॉवर समिति की सिफारिशों को स्वीकृत कर लिया है। इस राहत से कोस्टल गुजरात पॉवर लिमिटेड को सभी पांच लाभार्थी राज्यों के लिए अपने दायित्वों को पूरा करने और अपना परिचालन जारी रखने में सहायता मिलेगी। कंपनी ने बताया कि वित्तीय लागत पर कंपनी को मिलनेवाले रिबेट का नुकसान हो रहा है, जबकि कोयला खदानों 
से होनेवाले लाभ को पांच राज्यों मं बिजली वितरण में बंट जा रहा था। हाई पॉवर समिति की सिफारिशों और पीपीए को लागू किए जाने से कंपनी के आर्थिक नुकसान को कंट्रोल किया जा सकेगा। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार सीईआरसी से भी जरूरी मंजूरी लेने का मार्ग प्रशस्त हो गया है।
 
कंपनी ने बताया कि गुजरात सरकार की ओऱ से सकारात्मक कदम उठाए जाने से सीजीपीएल पॉवर प्लांट से बिजली लेनेवाले शेयरधारकों और सभी बिजली उपभोक्ताओं को लाभ होगा। इस तरह के बड़े प्रोजेक्ट के बंद होने की स्थिति में रिप्लेसमेंट का भी कोई विकल्प उपलब्ध नहीं हो सकेगा। कोयला आधारित बिजली निर्माण की लागत बढ़ जाती, जिससे उपभोक्ताओं को सस्ती दर पर बिजली उपलब्ध कराना मुमकिन नहीं हो पाता। फिलहाल मुंद्रा अल्ट्रा पॉवर प्रोजेक्ट की बिजली उत्पादन क्षमता बढ़ जाने से गुजरात की 23 फीसदी जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS