छत्तीसगढ़
सूजलम सूरजपुर बनेगी जल संरक्षण में मील का पत्थर
By Swadesh | Publish Date: 1/7/2019 6:06:09 PM
सूजलम सूरजपुर बनेगी जल संरक्षण में मील का पत्थर

सूरजपुर। मानसून के इस बार देर से सक्रिय होने की खबर है। इससे कृषि एवं अन्य कार्यों के लिए बड़ी समस्या खड़ी हो सकती कलेक्टर सहित जिला प्रशासन की टीम ने इसे देखते हुए वर्तमान सहित आने वाले रबी फसल के लिए अंतिम चरण तक के लिए कार्य योजना तैयार कर लिया है। इस संबंध में कलेक्टर दीपक सोनी ने बताया है कि राष्ट्रीय हरित अभिकरण के निर्देशोंं के पालन करने के साथ अगर अल्प वर्षा की स्थिति बनती हैं तो इसके प्रभाव से बचाने के लिए सूजलम सूरजपुर नाम से कार्योजना कि शुरूआत जल्द ही किया जाएगा।

 
सूजलम सूरजपुर का मुख्य उद्देश्य जल निकायोंं के जीर्णोधार करनें के अलावा बारिश के पानी को संचय कर जल स्त्रोत को रिचार्ज करना,ग्रामीण क्षेत्र के सभी जल निकायों की पहचान, समीक्षा, वर्गीकरण करते हुऐ जियो टैगिग एवं मैपिंग करना, जल निकायोंं के आकार, जीर्णोधार और क्षमता की जानकारी का विश्लेषण करना, जल संरक्षण क्षेत्र के उपचार व जीर्णोधार की कार्ययोजना पर क्रियान्वयन करना तथा जल निकाय के समीप ग्रीन बेल्ट की स्थापना करना, जल निकायों में मलबा व कुड़ा-कचरे की सफाई कराना, तत्काल हर तरह के औद्योगिक संस्था कें अपशिष्ट, अनुपचारित सीवेज, गंदे पानी और अन्य अपशिष्टों को जल निकाय में प्रवाहित करने पर प्रतिबंधित कर इसका पालन कराना और अब तक इनसे हुए जल प्रदुषण के स्तर का वर्गीकरण करते हुए तत्काल कार्यो को शुरू करने सहित राजस्व विभाग द्वारा जल निकायों के स्थलों का सीमांकन कर, इन्हें युनिक आईडी नम्बर जारी किया जाएगा।
 
इसके अलावा सार्वजनिक हैण्ड पम्पोंं में सोकपीट निर्माण कराना,जल निकाय क्षेत्र के अतिक्रमण को हटाना और जल निकाय के अनुपयोगी निजी उपयोग पर नियंत्रण करते हुए,जल का व्यवसायिक उपयोग पर प्रतिबंधित करने के साथ अन्य बिंदुओं पर कार्य के संबंध में बताया  है। इससें लगातार गिरते भू-जल स्तर पर नियंत्रण कर फिर से भू-जल स्तर को बढाने के दिशा में कार्य में सफलता मिलेगी। 
 
आने वाले समय में सिंचाई क्षमता, जल संरक्षण,जलावर्धन में बढ़ोतरी होगी और पेयजल एवं निस्तारी हेतु जल की उपलब्धता बने रहेगी और खरीफ फसलों के सिचाई हेेेतु जल उपलब्धता सूचारू रूप से होगी।  रबी सीजन के फसलों के लिए सिंचाई के लिए सभी छोटे-बड़े नालोंं का जिर्णोधार कर इनमें जल संरक्षण व सिंचाई क्षमता को बरकरार रखतें हुए आपूर्ति करना इस कार्य योजना का मुख्य उद्देश्य हैं। 
 
इसकें प्रारंभ के लिए संबंधित विभागों सहित प्रशासनिक व पंचायत विभाग की संयुक्त टीमें गठित कर लिया गया है। इस संबंध में जानकारों से चर्चा करनें पर उन्होंने बताया कि सूजलम सूरजपुर के तहत कराए जाने वाले कार्य अभी तक प्रदेश में इस स्तर पर नहीं किया गया है, यह कार्योजना अपने आप में बहुआयामी है।इसका परिणाम सूरजपुर जिलें के लिए लाभदायक सिद्ध होगा।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS