Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पीएमओ प्रवक्ता जगदीश ठक्कर का निधन, प्रधानमंत्री ने परिजनों से मुलाकात कर जताया शोकशिक्षा ही अच्छे व्यक्ति व समाज के निर्माण की आधारशिला-राष्ट्रपति कोविंदसुप्रीम कोर्ट ने केरल के 'लव जिहाद' मामले में एनआईए की रिपोर्ट लौटाईअन्याय, भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी एनएपीएम : ऊषाजम्मू एवं कश्मीर विस को भंग करने के राज्यपाल के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिजनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसलोकपाल के सेलेक्शन पैनल में विपक्ष के नेता को शामिल करने के लिए याचिका
छत्तीसगढ़
महासमुन्द में 150 नगर सैनिक मतदान से वंचित
By Swadesh | Publish Date: 20/11/2018 4:58:25 PM
महासमुन्द में 150 नगर सैनिक मतदान से वंचित

महासमुन्द। छत्तीसगढ़ के महासमुन्द जिले के अंदर कार्यरत 150 नगर सैनिकों को इस बार मतदान का अवसर नहीं मिल सका है। आज जिले के विभिन्न बूथों में उनकी तैनाती है लेकिन उन्हें तैनात करने से पहले विभाग ने किसी को भी 12 नम्बर फार्म उपलब्ध नहीं कराया है,लिहाजा उन्हें डाकमत मत पत्र से भी वंचित होना पड़ रहा है।

इस मामले में विभाग के प्रमुख एन.आर. टंडन का कहना है कि निर्वाचन आयोग ने खुद ही उनके कर्मचारियों के लिए फार्म उपलब्ध नहीं करवाया। एसपी संतोष सिंह का कहना है कि हमारे अधीन ही उनकी तैनाती हुई है लेकिन उनके लिए मतदान की प्रक्रिया तथा 12 नम्बर फार्म आदि उनके विभाग प्रमुख उपलब्ध कराते हैं। 
 
महासमुन्द जिले में इस वक्त कुल 150 सौ होमगार्ड सैनिक अपनी ड्युटी बजा रहे है जिले के कई पोलिंग बूथों में उन्हें सुरक्षा इंतजाम व्यापक करने के लिए कार्य में भेजा गया है अत: मतदान के दिन ये अपने अधिकार से वंचित हैं। ऊपर से विभाग के अधिकारी इनके लिए फार्म 12 की भी व्यवस्था नहीं कर पाये हैं. इस तरह ये सिपाही प्रजातांत्रिक व्यवस्था में अपनी सहभागिता नहीं दे पा रहे हैं। शासन प्रशासन, एक-एक मतदाताओं तक पहुंच कर उनका अधिकार पत्र पहुंचाता है और उनसे मतदान की अपील करता है लेकिन महासमुन्द के 150 नगर सैनिकों को ना तो निर्वाचन आयोग ने यह अधिकार देने की जुर्रत की और ना ही विभाग के आला अफसरों ने। 
 
नगर सैनिकों के अफसर टंडन स्पष्ट कहते हैं कि इसके लिए किसी भी सिपाही ने निर्वाचन आयोग से फार्म नम्बर 12 की अपील नहीं की और ना ही आयोग ने सिपाहियों के लिए यह फार्म भेजा अत: इस मामले में वे कुछ नहीं कर पाएंगे। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS