धर्म
हर-हर महादेव के जयघोष से गूंजे शिवालय, उमड़ा भक्तों का सैलाब
By Swadesh | Publish Date: 9/8/2018 5:05:09 PM
हर-हर महादेव के जयघोष से गूंजे शिवालय, उमड़ा भक्तों का सैलाब

नई दिल्ली। हिंदु धर्मग्रंथों के अनुसार सावन मास के कृष्ण पक्ष चतुदर्शी को शिवरात्रि का त्योहार मनाने की परंपरा चली आ रही है लेकिन शिवरात्रि का त्योहार सोमवार को मनाया जाता है लेकिन इस बार सोमवार नहीं बृहस्पतिवार को मनाया गया है। शिवालयों में जलाभिषेक सहित भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना होगी। मन्नत को पूरी करने के लिए हजारों डाक कांवड़ चढ़ाए जाएंगे। कांवड़िए पानीपत से लगभग 160 किमी की दूरी पर स्थित हरिद्वार से गंगाजल लाकर बाबा भोले के मस्तक पर अर्पित करेंगे। उमस भरी गर्मी में पसीने से तर बतर महज 24 घंटे में पीठ व कंधे पर गंगाजल का पात्र लेकर भोले बाबा के द्वार तक पहुंचना आसान काम नहीं है। 

 आज देश के कई शिवालयों में भक्ति का सैलाब उमड़ पड़ा। जलाभिषेक से पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया। कई मंदिरों में हजारों की संख्या में श्रद्धालु भगवान भोले का दर्शन एवं जलाभिषेक करते नजर आये। दिन चढ़ने के साथ ही भक्तों की संख्या लगातार बढ़ रही है। भक्त हर-हर महादेव के जयकारों के साथ भगवान भोलेनाथ को जलाभिषेक कर रहे हैं। शिव मंदिरों में भक्तों का रेला उमड़ पड़ा। ब्रह्म मुहूर्त से ही मंदिरों में पूजा अर्चना करने वाले श्रद्घालुओं की लंबी-लंबी कतारें लग गईं। प्राचीन मंदिरों में भक्तों की इतनी भीड़ रही कि पूजा अर्चना करने के लिए लोगों को घंटों अपनी बारी का इंतजार करना पड़ा। दूर-दूर से आए कांवड़ियों ने पवित्र नदियों से जल लाकर भगवान भोले शंकर का जलाभिषेक किया। पूरे दिन मंदिर हर-हर महादेव के जयघोष और घंटा घड़ियाल की ध्वनि से गूंजते रहे। मंदिरों में भंडारों की धूम रही।

शहर के कई मंदिर में सुबह से श्रद्घालुओं की भारी भीड़ रही। दूर-दूर से आए कांवड़ियों ने पवित्र नदियों के जल से प्राचीन दिव्य शिवलिंग का अभिषेक किया। यहां पूरे दिन मेला लगा रहा। कई श्रद्घालुओं ने मंदिर परिसर में भंडारा कराया। इसमें हजारों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। लोगों ने शिवलिंग पर बेलपत्र, फूल, धतूरा, भांग, चंदन, जल और दूध से भगवान शंकर की पूजा अर्चना की। 

 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS