धर्म
देवउठनी ग्यारस आज, शहनाई गूंजने के लिए करना होगा इंतजार
By Swadesh | Publish Date: 19/11/2018 2:20:40 PM
देवउठनी ग्यारस आज, शहनाई गूंजने के लिए करना होगा इंतजार

भोपाल। मध्य प्रदेश में आज (सोमवार को) देवउठनी एकादशी का त्यौहार धूमधाम से बनाया जा रहा है। देवउठनी ग्यारस भगवान विष्णु के निंद्रा से जागने का दिन होता है। इस दिन भगवान विष्णु की आराधना का बहुत महत्व है। इस एकादशी पर व्रत करने से बैकुंठ की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि आज के दिन भगवान विष्णु निंद्रा से जाग जाते हैं और मांगलिक कार्यों की शुरूआत होती है। हालांकि वैवाहिक शुभ मुहूर्त 8 दिसंबर से प्रारंभ होंगे। दिसंबर में केवल चार दिन ही मुहूर्त है। बाकी मुहूर्त 2019 में हैं। नए साल में कुल 107 दिन विवाह की शहनाइयां बजेंगी।

 
ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद गौतम के अनुसार देवउठनी ग्यारस के दिन क्षीरसागर में शयन कर रहे श्री हरि विष्णु को जगाकर उनसे मांगलिक कार्यों केे आरंभ करने की प्रार्थना की जाती है। देवउठनी ग्यारस पर मंदिरों व घरों में भगवान लक्ष्मीनारायण की पूजा-अर्चना की जाती है। मंडप में शालिग्राम की प्रतिमा एवं तुलसी का पौधा रखकर उनका विवाह कराया जाता है। तुलसी पूजा से घर में संपन्नता आती है तथा संतान योग्य बनती है। इस दिन आंवला, सिंघाड़े का भोग लगाया जाता है। देवउठनी ग्यारस के साथ ही शुभ कार्यों की शुरूआत हो जाती है। लेकिन इस वर्ष शुभ मुहूर्त देरी से शुरू हो रहे है। पंडित विनोद गौतम ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बार वैवाहिक शुभ मुहूर्त 8 दिसंबर से प्रारंभ होंगे। नवंबर व दिसंबर में मुहूर्त न होने की वजह गुरु ग्रह का 12 दिसंबर तक अस्त रहना है, जो विवाह का कारक ग्रह माना जाता है। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS