स्वास्थ्य
अधिक ग्लूटेन वाले भोजन से होने वाले बच्चे को डायबिटीज का खतरा
By Swadesh | Publish Date: 1/11/2018 3:50:06 PM
अधिक ग्लूटेन वाले भोजन से होने वाले बच्चे को डायबिटीज का खतरा

नई दिल्ली। डेनमार्क और फिनलैंड में हुए एक नए अध्ययन में यह दावा किया गया है कि अगर गर्भवती महिला गर्भावस्था को दौरान अधिक ग्लूटेन युक्त आहार लेती है तो पेट में पल रहे बच्चे में टाइप 1 डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। यह शोध ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित हुआ है। 

 
इस शोध के अध्ययन में पाया गया है कि गर्भावस्था में जो महिलाएं अधिक ग्लूटेन युक्त भोजन करती हैं। उनके गर्भ में पल रहे बच्चे को टाइप 1 डायबिटीज होने का खतरा अधिक रहता है। इसका मतलब यह है कि जो माएं पास्ता, ब्रेड, पेस्ट्रीज और सीरियल अधिक खाती हैं, उनके बच्चों में ऐसी स्थिति विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। ग्लूटेन एक प्रकार का प्रोटीन है जो गेहूं, बार्ली और राई जैसे अनाज से बने भोजन में मिलता है। जो महिलाएं 7 ग्राम प्रतिदिन से कम ग्लूटेन युक्त आहार लेती हैं, उनकी तुलना में 20 ग्राम प्रतिदिन ग्लूटेन लेने वाली महिलाओं के बच्चे को टाइप 1 डायबिटीज होने का खतरा 25 से 30 फीसदी तक बढ़ जाता है।
 
इस शोध में यह भी पाया गया कि ग्लूटेन से होने वाली समस्या अन्य सम्भावित कारकों जैसे मां की उम्र, वजन (बीएमआई), टोटल एनर्जी इनटेक और गर्भावस्था में धूम्रपान आदि पर भी निर्भर करता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को यह सलाह दी जाती है कि उन्हें अपने आहार में बदलाव लाना चाहिए। संतुलित आहार लेना बेहद जरूरी है। ग्लूटेन युक्त आहार लें लेकिन कम मात्रा में ले।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS