Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पाकिस्तान में तालिबान के हमले में दो सुरक्षाकर्मियों की मौतविक्रमसिंघे से मुलाकात में सुषमा ने की विकास परियोजनाओं की समीक्षामहाकाल के दर पर पहुंचे हार्दिक, बोले-लोगों को जागरूक करने से होगा देश का निर्माणदुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दो की मौत, धारा 144 लागूबीजापुर में पुलिस व नक्सलियों के बीच मुठभेड़, तीन नक्सली ढेर और छह घायलजम्मू/कश्मीर निकाय चुनाव: अब तक के परिणाम में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरीअमृतसर रेल हादसा: मुख्यमंत्री अमरिंदर ने दिए मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश, अमृतसर में तीन दिनों का शोकविजयादशमी पर्व पर अमृतसर में हुए रेल हादसे पर कांग्रेस नेताओं ने दुख व्यक्त किया
विदेश
उत्तर-पश्चिम हैती में आया 5.9 तीव्रता का भूकंप
By Swadesh | Publish Date: 7/10/2018 12:07:43 PM
उत्तर-पश्चिम हैती में आया 5.9 तीव्रता का भूकंप

पोर्ट-ऑ-प्रिंस। उत्तर-पश्चिम हैती शनिवार को 5.9 तीव्रता के भूकंप के झटकों से हिल गया है। भूकंप से नुकसान और हताहत होने की खबरें आ रही हैं. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि कितने पैमाने पर नुकसान पहुंचा है। अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण ने बताया कि भूकंप रात 8 बजकर 11 मिनट पर आया और इसका केंद्र हैती के उत्तरी तट पर पोर्ट-दे-पै से 19 किलोमीटर दूर उत्तर पश्चिम में था।

 
भूकंप का केंद्र सतह से 11.7 किलोमीटर की गहराई में था। देश की सिविल सुरक्षा एजेंसी ने अपने टि्वटर अकाउंट पर बताया कि नुकसान और लोगों के हताहत होने की खबरें है लेकिन अभी विस्तार से कोई जानकारी नहीं है। हैती की राजधानी पोर्ट-ऑ-प्रिंस के साथ-साथ डोमिनिकन रिपब्लिक में भी भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। हैती भूकंप के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्र में आता है। साल 2010 में राजधानी में आए 7.1 की तीव्रता के भूकंप में तकरीबन 300,000 लोग मारे गए थे।
 
 
बता दें कि इंडोनेशिया में भूकंप-सुनामी के बाद राहतकर्मी मलबे के ढेर से अब भी शवों की तलाश में जुटे हैं और शनिवार को वहां नई स्वास्थ्य चेतावनी जारी की गई है।  पालू शहर में जमीन से कुछ शव सड़ी हालत में निकाले गए हैं। अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि शक्तिशाली भूकंप और उसके बाद सुनामी में मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 1,649 हो गया है और सुलावेसी द्वीप पर समुद्र के किनारे बसे शहर में करीब एक हजार लोग अब भी लापता हैं।
 
इस हादसे के आठ दिन बीत जाने के बाद किसी के जीवित बचने की उम्मीद हालांकि बेहद कम है लेकिन तलाश अभियान को अभी आधिकारिक रूप से बंद नहीं किया गया है। इस बात की आशंका है कि पेटाबो और बालारोआ में कई शव सड़ी हुई हालत में अब भी जमीन के अंदर दबे हो सकते हैं।  भूकंप और सुनामी के बाद इन दोनों शहरों का एक तरह से नामोनिशान मिट गया है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS