Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
UN ग्लोबल मीडिया कॉम्पैक्ट में भारत का सूचना प्रसारण मंत्रालय शामिलकांग्रेस का वित्त मंत्री पर पलटवार, 'मोदी सल्तनत के दरबारी विदूषक' बनने को बेताब हैं अरुण जेटलीजम्मू कश्मीर : नियंत्रण रेखा के पास सुरक्षाबलों का आतंक निरोधक अभियान, 3 आतंकियों को किया ढेरपश्चिम बंगाल में एक और हादसा, दक्षिण 24 परगना जिले में गिरा निर्माणाधीन पुलशिवराज सरकार में मंत्री दर्जा प्राप्त पदमा शुक्ला ने छोड़ी पार्टी, भाजपा में मचा हड़कंपअब क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों का भी होगा एकीकरण, संख्या घटकर होगी 36पाकिस्तान के खिलाफ मैच में रोहित-धवन ने की ताबड़तोड़ बैटिंग, बड़े-बड़े धुरंधरों के टूटे कई रिकॉर्डगणपति बप्पा मोरिया मुख्यमंत्री शिवराज ने परिवार समेत किया 'गणपति विसर्जन'
विदेश
जापान में बाढ़ और मूसलाधार बारिश से 38 की मौत, 50 लापता
By Swadesh | Publish Date: 7/7/2018 6:16:14 PM
जापान में बाढ़ और मूसलाधार बारिश से 38 की मौत, 50 लापता

 टोक्यो। जापान के दक्षिण पश्चिम क्षेत्र बाढ़ और मूसलाधार बारिश से बुरी तरह से प्रभावित है। सरकारी प्रसारक एनएचके ने बताया कि बारिश से 38 लोगों की मौत हो गई और चार अन्य गंभीर रूप से घायल हुए है जबकि 47 लोग लापता हैं।  

 
टेलीविजन फुटेज में ओकायामा में एक आवासीय क्षेत्र दिखाया गया है जो भूरे रंग के पानी में एक विशाल झील की तरह नजर आ रहा है। कुछ लोग घरों की छतों और बालकनी में चले गये है। ओकायामा प्रांत ने एक बयान में कहा कि भूस्खलन से एक व्यक्ति की मौत हो गई और छह अन्य लापता है। 3,60,000 लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाये जाने के आदेश जारी किये गये थे।
 
एनएचके टीवी ने बताया कि प्रभावित इलाकों में खड़ी कारें जलमग्न हो गई है और प्रभावित क्षेत्रों में पानी पांच मीटर (16 फुट) की ऊंचाई तक पहुंच गया है। ‘क्योडो ’ समाचार सेवा ने मृतकों की संख्या 34 बताई है। हिरोशिमा में भूस्खलन से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि बाढग़्रस्त इलाके से एक बच्चे का शव भी बरामद हुआ है।
 
एनएचके ने राहत का इंतजार कर रहे लोगों से उम्मीद नहीं खोने का आग्रह किया है। क्योटो प्रांत में विभिन्न बांधों पर बाढ़ को नियंत्रित करने का कार्य जारी है। 52 वर्षीय एक महिला की मौत हो गई। क्योडो के अनुसार 47.2 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाये जाने के आदेश या परामर्श भेजे गये थे और आत्मरक्षा बलों , पुलिस और अग्निशमन के 48,000 सदस्य तलाशी अभियान में लगे हुए हैं। 
 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS