विदेश
अमेरिकी शिक्षण संस्थानों से उच्च डिग्री पाने वालों के रोजगार कोटे में वृद्धि
By Swadesh | Publish Date: 1/12/2018 12:53:38 PM
अमेरिकी शिक्षण संस्थानों से उच्च डिग्री पाने वालों के रोजगार कोटे में वृद्धि

लॉस-एंजेल्स। अमेरिकी शिक्षण संस्थानों से स्नातकोत्तर की डिग्री लेने वाले भारत सहित अन्य देशों के छात्रों को अब अमेरिका में रोजगार पाना और सहज हो जाएगा। इसके लिए ट्रम्प प्रशासन ने अपने एच-1बी वीजा नियमों में सुधार का प्रस्ताव किया है। इस प्रस्ताव के अनुसार अमेरिका की उच्च शिक्षण संस्थानों से स्नातकोत्तर की डिग्री पाने वाले और रोजगार मांगने वाले कोटे में सोलह प्रतिशत अर्थात 5340 कर्मियों की वृद्धि की गई है।

 
उल्लेखनीय है कि अभी तक एच-1बी वीजा से 65 हजार विदेशी आवेदकों के अलावा अमेरिका में रहकर स्नातकोत्तर की उच्च शिक्षा प्राप्त बीस हजार कर्मियों को ही रोजगार दिए जाने का प्रावधान था। इस पर लोगों की आम राय के लिए एक माह का समय दिया गया है। 
 
होमलैंड सिक्यूरिटी की ओर से प्रस्तावित योजना के अनुसार अमेरिकी कंपनियों को एच 1-बी वीजा के लिए अब समय पूर्व याचिका देनी होगी, जो अमेरिकी शिक्षण संस्थानों से स्नातकोत्तर डिग्री हासिल कर चुके हैं। अभी तक यूएससीआई एस एच-1बी वीजा के अंतर्गत उच्च शिक्षा प्राप्त 65 हजार विदेशी प्रार्थियों को वीजा देती थी। इनके अलावा बीस हजार उन प्रार्थियों को वीजा दिए जाते थे जो अमेरिकी शिक्षण संस्थानों स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल करते थे। 
 
मौजूदा नियमानुसार हर साल एक अप्रैल को एच1बी के लिए आवेदन जमा कराने होते हैं, लेकिन चार-पांच दिनों में हाई एक लाख से ऊपर आवेदन आ जाते हैं, जिनमें से 65 हजार आवेदनों का इलेक्ट्रॉनिक लॉटरी से चयन किया जाता है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनावी वादों में यह एक वादा था। 
 
उल्लेखनीय है कि अभी तक एच-1बी अस्थायी वीजा कार्यक्रम के अंतर्गत सत्तर प्रतिशत प्रार्थी भारतीय कंपनियों के माध्यम से आते रहे हैं। इनमें ज्यादातर प्रार्थी भारत की चार आउट सोर्सिंग कंपनियों, टाटा कन्सल्टेंसी सर्विस, इंफोसिस, विप्रो और एचसीएल के होते हैं। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS