मध्य प्रदेश
छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार बंटी साहू व 22 पोलिंग एजेंट गिरफ्तार
By Swadesh | Publish Date: 21/5/2019 6:46:23 PM
छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार बंटी साहू व 22 पोलिंग एजेंट गिरफ्तार

छिंदवाड़ा। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ छिंदवाड़ा विधानसभा से उपचुनाव लड़ रहे हैं, जहां उनके प्रतिद्वंदी के रूप में भारतीय जनता पार्टी से विवेक साहू बंटी को मैदान में उतारा गया है। गुरुवार, 23 मई को मतगणना होना है, लेकिन इससे पहले मंगलवार को पुलिस ने भाजपा उम्मीदवार विवेक बंटी साहू सहित भाजपा के करीब 22 पोलिंग एजेंटों को गिरफ्तार किया। भाजपा ने इस पर सख्त एतराज जताया और कहा कि यह दबाव की राजनीति है। मतगणना के पहले भाजपा के उम्मीदवार और पोलिंग एजेंटों को गिरफ्तार करना मतगणना में गड़बड़ करने षड्यंत्र की तैयारी लगती है।

छिंदवाड़ा कोतवाली प्रभारी ने बताया कि थाना कोतवाली में दर्ज अपराध क्रमांक 317/19 धारा 147 ,186,188, 341 के तहत सभी आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है, जिन्हें न्यायालय में सीजेएम अभिलाषा मवार के समक्ष पेश किया जाएगा। गिरफ्तारी की सूचना छिंदवाड़ा के गुलाबरा निवासी राजेश भोयर के नाम निकाली गई। कोतवाली पुलिस ने छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार विवेक बंटी साहू के अलावा भाजपा नगर अध्यक्ष अरुण शर्मा, नगर निगम अध्यक्ष धर्मेंद्र मिगलानी, भारतीय जनता युवा मोर्चा  जिला अध्यक्ष अंकुर शुक्ला, अरविंद राजपूत, नरेंद्र जैन, योगेश बेले, तनवीर सिंह ठाकुर, अमित श्रीवास्तव, राजा राजपूत, रोहित पोफली, योगेश सदारंग, राकेश पहाड़े, चीकू पाल, राहुल शर्मा, मोहित साहू, दिनेश मालवी, राम सोनी, नितेश अनेजा को गिरफ्तार किया है। पुलिस की इस कार्रवाई के बाद छिंदवाड़ा शहर में हड़कंप है तो वहीं भाजपा खेमे में नाराजगी। अब देखना है कि आगे क्या होता है।
 
30 अप्रैल का है मामला
जिस मामले में पुलिस ने भाजपा उम्मीदवार और पोलिंग एजेंटों को गिरफ्तार किया है, वह मामला  30 अप्रैल का बताया जा रहा है। उस समय भाजपा उम्मीदवार और भाजपा नेता रात लगभग 11 बजे कोतवाली थाने में धरने पर बैठ गए थे। भाजपा नेताओं का कहना था कि उनके कार्यकर्ताओं को पुलिस जबरन परेशान कर रही है और बिना कारण कार्यकर्ताओं को उठाकर थाने में बंद कर रही है।
 
एक कार्यकर्ता को छुड़ाने भाजपा नेता कोतवाली थाना प्रभारी से बात करने पहुंचे थे। जब कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो वे थाना परिसर में ही धरने पर बैठ गए थे। उस मामले में पुलिस ने उक्त कार्रवाई की थी, जिस पर मंगलवार को उन्हें गिरफ्तार किया गया। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS