मध्य प्रदेश
शिक्षा मंत्री ने घंटी बजाकर की स्कूल चलें हम अभियान की शुरुआत
By Swadesh | Publish Date: 24/6/2019 5:47:40 PM
शिक्षा मंत्री ने घंटी बजाकर की स्कूल चलें हम अभियान की शुरुआत

भोपाल। मध्यप्रदेश में सोमवार को स्कूल चलें हम अभियान की शुरुआत हुई। प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने भोपाल के टीटी नगर स्थित मॉडल स्कूल में घंटी बजाकर इस अभियान का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने छात्र-छात्राओं को पाठ्य पुस्तकें वितरित कीं और साइकिल भी बांटी। जिन स्कूलों का परीक्षा परिणाम अच्छा आया, उनके शिक्षकों और प्राचार्यों को सम्मानित भी किया गया। 

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभूराम चौधरी ने रायसेन जिले के बेगमगंज स्थित प्राथमिक शाला में अपनी पढ़ाई की शुरुआत की थी। सोमवार को जब उन्होंने स्कूल चले अभियान की शुरुआत भोपाल के टीटी स्थित मॉडल स्कूल की तो स्कूल प्रबंधन द्वारा बेगमगंज की प्राथमिक शाला की घंटी को प्रतीक बनाया, जिसे बजाकर उन्होंने अभियान का शुभारंभ किया। इसके बाद उन्होंने भव्य कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं को साइकिलें और पाठ्य पुस्तकें वितरित कीं। इस मौके पर प्रदेश के जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा भी मौजूद रहे। 
 
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. चौधरी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बच्चे खूब पढ़ें और आगे बढ़ें, यही सरकार की मंशा है। उन्होंने शिक्षकों से अनुरोध करते हुए कहा कि स्कूलों में शिक्षा के साथ बच्चों की हॉबी को ध्यान में रखते हुए विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों का आयोजन कराएं, ताकि बच्चों का सर्वांगीण विकास हो सके। सभी का यही प्रयास होना चाहिए कि स्कूलों में शिक्षा की गुढ़वत्ता को बेहतर किया जाए। 
 
उन्होंने कहा कि पिछले साल स्कूलों में यूनिफार्म, किताबें और साइकिल वितरित करने में देरी हो गई थी, लेकिन इस बार हम समय पर बच्चों को सभी चीजें उपलब्ध कराएं, यह हमारा प्रयास रहेगा। उन्होंने कहा कि इस बार सरकार बच्चों को यूनीफोर्म नहीं बांटेगी, बल्कि उसके लिए बच्चों के अभिभावकों को नकद पैसे दिये जाएंगे, जो उनके खातों में डाल दिये जाएंगे।
 
दो बच्चों को फीस जमा नहीं करने पर पहले ही दिन किया बाहर, शिक्षा मंत्री के पास पहुंचे अभिभावक स्कूल चलें हम अभियान के साथ ही ग्रीष्कालीन छुट्टियों के बाद सोमवार को प्रदेश के सभी सरकारी और निजी स्कूल दोबारा खुल गए हैं। स्कूलों में प्रवेशोत्सव मनाया गया और बच्चों का तिलक लगाकर स्वागत किया गया और पाठ्य पुस्तकों का वितरण किया गया। स्कूल खुलने के पहले ही दिन राजधानी भोपाल में एक असंवेदनशीलता का मामला भी सामने आया है। यहां स्कूल प्रबंधन द्वारा फीस जमा नहीं करने पर जो बच्चों को बाहर का रास्ता दिखा गया।
 
भोपाल के कोटरा सुल्तानाबाद स्थित निजी कमला नेहरू हायर सेकण्डरी स्कूल में सोमवार को फीस नहीं भर पाने के चलते प्रबंधन ने दो बच्चों को स्कूल से बाहर कर दिया। बताया गया है कि दोनों सगे भाई-बहन हैं और छात्रा कक्षा छटवीं में और भाई कक्षा आठवीं में अध्यनरत है। स्कूल प्रबंधन ने दोनों भाई-बहनों को फीस जमा नहीं करने पर एडमिशन नहीं दिया और सोमवार जब वे स्कूल गए, तो उन्हें बाहर कर घर लौटा दिया। इसके बाद बच्चों के पिता उन्हें लेकर स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी के पास पहुंचे और उन्हें मामले की जानकारी दी। 
 
इस दौरान मीडियाकर्मी भी मौके पर मौजूद थे। स्कूल शिक्षा मंत्री ने स्कूल के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिये हैं और दोनों बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिलाने का आश्वासन दिया है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS