ब्रेकिंग न्यूज़
मध्य प्रदेश
मंदसौर: बाढ़ पीड़ितों ने राहत नहीं मिलने पर किया चक्का जाम, शिवराज सिंह ने जलाए बिजली बिल
By Swadesh | Publish Date: 17/9/2019 3:17:58 PM
मंदसौर: बाढ़ पीड़ितों ने राहत नहीं मिलने पर किया चक्का जाम, शिवराज सिंह ने जलाए बिजली बिल

मंदसौर। मंदसौर जिले में इस साल रिकार्ड बारिश हुई है। बीते दिनों हुई जोरदार बारिश से पिछले तीन दिन तक पूरा जिला बाढ़ की चपेट में रहा। मंगलवार को बाढ़ पीडि़तों ने राहत नहीं मिलने से आक्रोशित होकर चक्काजाम कर दिया। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी दो दिन से मंदसौर जिले के प्रवास पर हैं और गांवों का भ्रमण कर बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात कर रहे हैं। उन्होंने मंगलवार को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण किया और बाढ़ पीड़ितों को थमाए भारी भरकम बिजली बिलों को इकट्ठा कर आग के हवाले कर दिया।
 
मंदसौर के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत नहीं मिलने से बाढ़ पीड़ितों में मंगलवार को आक्रोश देखने को मिला। लोगों ने दो जगह चक्काजाम कर सरकार के खिलाफ अपना आक्रोश प्रदर्शित किया। बाढ़ पीड़ितों ने मंदसौर-प्रतापगढ़ मार्ग और प्रतापगढ़ पुलिया के पास चक्काजाम कर सरकार से जल्द राहत राशि वितरित करने की मांग की। प्रदर्शनकारियों का आरोप है कि तीन दिन से पूरा जिला बाढ़ की चपेट में है, लेकिन राहत कार्य के लिए अब तक कोई प्रशासनिक अधिकारी उनके पास नहीं पहुंचा है। मंदसौर के व्यापारियों ने शहर के कालीदास मार्ग पर चक्काजाम कर दिया। दोनों जगह चक्काजाम की वजह से वाहनों की लम्बी-लम्बी कतारें लग गईं और यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। फिलहाल, प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं और आक्रोशित बाढ़ पीड़ितों का समझाने का प्रयास किया जा रहा है।
 
उल्लेखनीय है कि भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को देर रात तक मंदसौर जिले के विभिन्न गांवों का भ्रमण कर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया था। मंगलवार को सुबह फिर वे जिले के प्रवास पर पहुंचे। यहां उन्होंने बाढ़ प्रभावित अलावदा खेड़ी गांव पहुंचकर लोगों को ढांढस बंधाते हुए उन्हें सरकार की तरफ से राहत दिलावाने का आश्वासन दिया। इस दौरान ग्रामीणों ने उन्हें बिजली कंपनी के थमाए गए भारी भरकम बिजली के बिल दिखाए। शिवराज ने ग्रामीणों से बिजली के बिल लेकर उन्हें इकट्ठे किये और उनमें आग लगा दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि तुम्हारा मामा अभी जिंदा है। मुख्यमंत्री कमलनाथ 21 सितम्बर तक राहत नहीं पहुंचाएंगे तो 22 सितम्बर को पूरे प्रदेश में भाजपा द्वारा आंदोलन किया जाएगा।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS