मध्य प्रदेश
शिवपुरी जिला अस्पताल में शव पर रेंगती रही चीटिंया, मुख्यमंत्री ने दिए कार्रवाई के निर्देश
By Swadesh | Publish Date: 16/10/2019 12:44:00 PM
शिवपुरी जिला अस्पताल में शव पर रेंगती रही चीटिंया, मुख्यमंत्री ने दिए कार्रवाई के निर्देश

भोपाल। मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिला अस्पताल में मानवता को शर्मसार कर देने का मामला सामने आया है। यहां भर्ती एक मरीज की मौत के बाद पांच घंटे तक उसका शव मेडिकल वार्ड में पड़ा रहा और उसके चेहरे पर चींटियां रेंगती रहीं। मरीज ने जब दम तोड़ा, तब उसके साथ कोई परिजन मौजूद नहीं था। अन्य मरीजों ने ड्यूटी डॉक्टर और नर्सों को सूचना दी पर उन्होंने देखकर अनदेखा कर दिया। मामला सामने आने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने घटना को असंवेदनशील बताते हुए लापरवाही बरतने वालों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।
 
बुधवार सुबह मामला प्रकाश में आने के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने संज्ञान लेकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर लिखा ‘शिवपुरी में जिला अस्पताल में एक मरीज की मौत होने पर उसके शव पर चींटियां चलने व इस घटना पर बरती गयी लापरवाही की घटना बेहद असंवेदनशीलता की परियाचक। ऐसी घटनाएं मानवता व इंसानियत को शर्मसार करती हैं, बर्दाश्त क़तई नहीं की जा सकती है। घटना के जांच के आदेश, जांच में दोषी व लापरवाही बरतने वालों पर कड़ी कार्यवाही के निर्देश'।
 
बताया जा रहा है कि क्षय रोग से पीड़ित बालचंद्र लोधी (50 वर्ष) को रविवार को पेट में तकलीफ के चलते जिला अस्पताल में भर्ती किया गया था। सोमवार की रात बच्चों की देखभाल के लिए पत्नी घर चली गई। मंगलवार सुबह 6 बजे से बालचंद्र के शरीर में कोई हलचल नहीं दिख रही थी। लेकिन अस्पताल के स्टाफ ने सुध नहीं ली, तब आसपास के मरीजों ने 8 बजे अस्पताल के स्टाफ को जानकारी दी। इसके बावजूद ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर दिनेश राजपूत सहित वार्ड ब्वॉय और नर्सों ने कोई ध्यान नहीं दिया। शव पांच घंटे तक पलंग पर पड़े रहने के कारण मरीज की आंख पर चीटियां रेंगती दिखाई देने लगीं। 
 
इसके बाद वार्ड में भर्ती किसी मरीज ने बालचंद्र की पत्नी रामश्री बाई को फोन किया। सुबह 11 बजे रामश्री अस्पताल पहुंचीं। उन्होंने पति की आंखों से चींटियों को हटाया। परिवार के लोग रोते-रोते शव को ले गए। यह पहला मामला नहीं है जब जिला अस्पताल में ऐसा मामला सामने आया हो। इससे पहले भी एक दो नहीं बल्कि कई बार शर्मशार करने वाली घटनाएं सामने आई हैं। करीब एक साल पहले जिला अस्पताल में चूहों ने एक न नवजात की अंगुली काट ली थी। कुछ माह पहले जिला अस्पताल में भर्ती मरीज की गला रेतकर सनसनीखेज हत्या कर दी गई थी। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS