मध्य प्रदेश
साध्वी प्रज्ञा के बयान ने मचाई खलबली, बाद में मांगी माफी
By Swadesh | Publish Date: 17/5/2019 10:50:42 AM
साध्वी प्रज्ञा के बयान ने मचाई खलबली, बाद में मांगी माफी

भोपाल। भोपाल से भाजपा की लोकसभा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा अपनी बयानबाजी से जहां मीडिया की सुर्खियों में छायी रहती हैं, वहीं वे भाजपा के लिए मुसीबतें भी खड़ी कर देती हैं। उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार बनाए जाते ही शहीद हेमंत करकरे के बारे में बयान दिया था, जिससे भाजपा की काफी किरकिरी हुई थी। गुरुवार को नाथूराम गोडसे के बारे में दिए गए बयान से उन्होंने फिर एक बार कांग्रेस और विपक्षी दलों को जहां हमले करने का मौका दे दिया है, वहीं उन्होंने भाजपा के लिए समस्या खड़ी कर दी है। 

 
लेकिन पार्टी के बढ़ते दबाव के बीच भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा महज कुछ घंटे बाद ही अपने बयान के लिए माफी भी मांग ली। भोपाल लोकसभा से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा गुरुवार को आगर मालवा में स्थानीय भाजपा उम्मीदवार महेन्द्र सिंह सोलंकी के समर्थन में आयोजित रोड शो में  पहुंची थी। 
 
इस दौरान कुछ मीडियाकिर्मयों  ने उनसे अभिनेता कमल हासन के नाथूराम गोडसे पर  दिये गए बयान के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि नाथूराम गोडसे सच्चे देशभक्त थे, देशभक्त हैं और देशभक्त रहेंगे। उनका यह बयान मीडिया में आते ही उनके विरोधी उम्मीदवार दिग्विजय सिंह सहित कांग्रेस मुख्यालय तक ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए साध्वी प्रज्ञा के बयान की निंदा की। साध्वी प्रज्ञा के इस बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तक को लपेटा जाने लगा। 
 
इधर, भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हाराव ने साध्वी के इस बयान से किनारा करते हुए कहा कि यह साध्वी प्रज्ञा का निजी बयान है। बाद में पार्टी की ओर से मिल रहे संकेतों को देखते हुए साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान के लिए माफी मांग ली। पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने बताया कि साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान पर माफी मांग ली है। उन्होंने कहा है कि मैंने जो कुछ कहा है, मुझे नहीं कहना चाहिए था, मैं इसके लिए माफी मांगती हूं। 
 
गोडसे का महिमा मंडन देशद्रोह: दिग्विजय सिंह
साध्वी प्रज्ञा के बयान पर भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोदीजी, अमित शाहजी और भाजपा की राज्य इकाई को इस पर अपना बयान देना चाहिए और देश से माफी मांगनी चाहिए। मैं इस बयान की निंदा करता हूं। नाथूराम गोडसे एक हत्यारा था। उसका महिमामंडन करना देशभक्ति नहीं है, यह देशद्रोह है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS