मध्य प्रदेश
हनुवंतिया के बुरे दिन शुरू, संसाधन उपलब्‍ध होने पर होंगे पर्यटन आयोजन
By Swadesh | Publish Date: 8/7/2019 5:21:25 PM
हनुवंतिया के बुरे दिन शुरू, संसाधन उपलब्‍ध होने पर होंगे पर्यटन आयोजन

भोपाल। पूर्ववर्ती शिवराज सरकार द्वारा खंडवा के पास नर्मदा नदी पर स्थित हनुवंतिया टापू को पर्यटन स्‍थल के रूप में विकसित किया गया था। लेकिन अब इसके बुरे दिन शुरू हो गए हैं। भाजपा शासन में हनुवंतिया में हर वर्ष दिसंबर-जनवरी माह में जल महोत्‍सव का आयोजन होता था और यह स्‍थल देशभर के पर्यटकों के लिये स्विट्जरलैंड बन चुका था। लेकिन प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आते ही यहां जल महोत्‍सव का आयोजन तो बंद हुआ ही, आगे भी यह कार्यक्रम होगा इसकी कोई संभावना नहीं। क्‍योंकि इसको लेकर प्रदेश सरकार विधानसभा में कोई आश्‍वासन दे पा रही है।

दरअसल, निमाड़ क्षेत्र खण्‍डवा विधायक देवेन्द्र वर्मा के सोमवार को विधानसभा में पूछे गए एक प्रश्‍न के जवाब में इसी प्रकार का लिखित उत्‍तर विधानसभा में नर्मदा घाटी विकास मंत्री सुरेन्‍द्र सिंह हनी बघेल की ओर से दिया गया है। विधायक देवेन्द्र वर्मा ने पूछा था कि क्या नर्मदा घाटी विकास मंत्री बताने की कृपा करेंगे कि खण्डवा जिले में इंदिरा सागर बांध के बैक वॉटर स्थित प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हनुवंतिया के विकास की आगामी क्या कार्य योजना है? क्या विगत वर्षों में पर्यटन विभाग द्वारा पर्यटकों को आकर्षित करने के लिये हनुवंतिया में माह दिसम्बर-जनवरी में आयोजित किये जाने वाला कार्यक्रम इस वर्ष आचार संहिता के कारण नहीं हो पाया था? यदि हां, तो क्या यह आयोजन प्रतिवर्ष नियमित रूप से किये जायेंगे?
 
इसके उत्‍तर में नर्मदा घाटी विकास मंत्री सुरेन्‍द्र सिंह हनी बघेल का लिखित उत्‍तर आया है कि सरकार ने हनुवंतिया में टेन्‍ट सिटी का संचालन निजी ऑपरेटर के माध्‍यम से किया जाना प्रस्‍तावित है। उनके जवाब से जो निष्‍कर्ष निकला, वह यह है कि पिछली भाजपा सरकार में पर्यटन विभाग देश-विदेश और अपने ही राज्‍यभर के लोगों को आकर्षित करने के लिये हनुवंतिया में हर वर्ष दिसम्बर-जनवरी तक जो एक निश्‍चित आयोजन करती रही है, वह आगे होगा या नहीं, अब नहीं कहा जा सकता। असल में यह इस बात पर निर्भर करता है कि सरकार के पास इसके लिए पर्याप्‍त संसाधन होंगे अथवा नहीं। मंत्री सुरेन्‍द्र सिंह हनी बघेल ने अपने लिखि‍त उत्‍तर में कहा है आगे आयोजन ‘‘संसाधन उपलब्‍ध होने की स्थिति में किया जाएगा’’।
 
उल्‍लेखनीय है कि मूंदी के निकट इंदिरासागर बांध के बैक वॉटर में बने हनुवंतिया टापू को मप्र पर्यटन विकास निगम ने 20 करोड़ रुपये की लागत से पिछली शिवराज सरकार में तैयार किया था । यहां पर्यटकों के लिए काटेज बनाए गए थे, जिससे कि चारों तरफ समुंद्र की तरह फैले कुदरत के नजारे को निहारने का भरपूर लुफ्त देश-विदेश से आए पर्यटक उठा सकें।
 
पूर्व सरकार इस स्‍थान को अंतरराष्ट्रीय पर्यटक केंद्र के रूप में विकसित कर रही थी। इसलिए इसके प्रचार-प्रसार में कोई कसर न छोड़ते हुए पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान यहां अपनी कैबिनेट बैठक तक कर चुके हैं। पर्यटन विभाग हनुवंतिया में दस दिनों तक जल महोत्सव का आयोजन करता रहा है, जिसमें कि पतंगबाजी, वॉलीबॉल, कैंप फायर, स्टार गेजिंग, साइकिलिंग, पैरामोटरिंग, पैरासेलिंग, हॉट एयर बैलून, बर्ड वॉचिंग जैसी गतिविधियों का आनंद पर्यटक उठाते थे। इस दौरान पर्यटकों के ठहरने और खाने के लिए लजीज व्यंजन भी यहां मौजूद रहते थे। इसके बारे में बताया जाता है कि यह देशभर में अंतरराष्ट्रीय स्तर का पहला बैक वाटर में बना एक टापू है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS