मध्य प्रदेश
मूक बधिर गीता ने इशारों में कहा- मेरी मां चली गईं, सुषमा स्वराज को दी श्रद्धांजलि
By Swadesh | Publish Date: 7/8/2019 5:32:27 PM
मूक बधिर गीता ने इशारों में कहा- मेरी मां चली गईं, सुषमा स्वराज को दी श्रद्धांजलि

इंदौर। पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अथक प्रयासों के बाद पाकिस्तान से लाई गई गीता को बुधवार सुबह जैसे सुषमा स्वराज के निधन का समाचार मिला तो वह रो पड़ी। गीता के मन की व्यथा उसके आसूंओं के रूप में निकल आए। इशारों ही इशारों में उसने कहा कि मेरी मां चली गईं और मैं अनाथ हो गई।

 
उल्लेखनीय है कि साल 2015 में पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज को जैसे ही गीता के पाकिस्तान में होने की बात पता चली थी। उन्होंने हर संभव कोशिश कर गीता की वतन वापसी करवाई थी। पाकिस्तान से लौटने के बाद से ही गीता इंदौर के हरनाम लक्ष्मी खुशीराम बधिर बालक छात्रावास में रह रही है। तभी से सुषमा स्वराज को वह अपनी मां मानती थी। मंगलवार रात सुषमा स्वराज के निधन की सूचना गीता को नहीं दी गई थी। बुधवार सुबह जैसे ही उसे इसकी खबर दी गई, वह भावुक हो गई। गीता ने अपने साथियों के साथ सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि दी। इशारों में गीता ने कहा कि मेरी मां चली गई, मैं अनाथ हो गई। अब मेरा ध्यान कौन रखेगा। मेरी मां जब भी इंदौर आईं, मुझसे मिलीं। गीता को इस बात की भी चिंता है कि अब उसका क्या होगा।
 
पाकिस्तान की एक सामाजिक संस्था में बचपन से रह रही मूक-बधिर गीता के माता-पिता के भारत में होने की जानकारी मिलने पर सुषमा स्वराज ने उसे मिलाने का वादा किया था। 26 अक्टूबर 2016 को गीता दिल्ली पहुंची। इसके बाद गीता को इंदौर में एक मूक-बधिर संगठन को सौंपा गया। गीता के इंदौर में रहने के दौरान सुषमा लगातार उनके संपर्क में रहती थीं। गीता के लिए वो किसी अभिभावक की तरह हर मुश्किल में समय में साथ खड़ी रहीं। सुषमा ने गीता के परिजनों को ढूंढने का लगातार प्रयास भी किया, लेकिन वे नहीं मिल पाए।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS