Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पीएमओ प्रवक्ता जगदीश ठक्कर का निधन, प्रधानमंत्री ने परिजनों से मुलाकात कर जताया शोकशिक्षा ही अच्छे व्यक्ति व समाज के निर्माण की आधारशिला-राष्ट्रपति कोविंदसुप्रीम कोर्ट ने केरल के 'लव जिहाद' मामले में एनआईए की रिपोर्ट लौटाईअन्याय, भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी एनएपीएम : ऊषाजम्मू एवं कश्मीर विस को भंग करने के राज्यपाल के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिजनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसलोकपाल के सेलेक्शन पैनल में विपक्ष के नेता को शामिल करने के लिए याचिका
मध्य प्रदेश
अब बिना परमिशन के निजी अस्पतालों में मरीज नहीं देख सकेंगे डॉक्टर
By Swadesh | Publish Date: 4/10/2018 6:08:59 PM
अब बिना परमिशन के  निजी अस्पतालों में मरीज नहीं देख सकेंगे डॉक्टर

इंदौर। MGM मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों के लिए अब निजी प्रैक्टिस करना और प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों को देखना आसान नहीं होगा। उन्हें इसके लिए डीन से लिखित अनुमति लेना होगी। हर मरीज का हिसाब भी कॉलेज को देना होगा। अपर मुख्य सचिव (एसीएस) के इस निर्देश के बाद कॉलेज प्रबंधन उन डॉक्टरों की सूची तैयार कर रहा है जो निजी अस्पतालों में मरीज देखते हैं। हाल ही में  एक डॉक्टर द्वारा ड्यूटी समय में निजी अस्पताल में मरीज का ऑपरेशन करने की शिकायत के बाद चिकित्सा शिक्षा विभाग सख्त है।

 
 
एसीएस राधेश्याम जुलानिया ने प्रदेश के सभी सरकारी मेडिकल कॉलेजों के डीन को निर्देश दिए हैं कि वे डॉक्टरों की निजी प्रैक्टिस पर लगाम कसें। जो डॉक्टर नॉन प्रैक्टिस अलाउंस (एनपीए) लेते हैं, वे किसी हालत में प्राइवेट प्रैक्टिस नहीं कर सकेंगे। एनपीए नहीं लेने वाले डॉक्टर ड्यूटी समय के बाद निजी अस्पताल या क्लिनिक पर मरीज तो देख सकेंगे, लेकिन उन्हें हर मरीज की जानकारी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को देना होगी। कॉलेज प्रबंधन ऐसे सभी डॉक्टरों की सूची तैयार कर रहा है। पहले चरण में उन डॉक्टरों पर कार्रवाई होगी जो एनपीए लेने के बावजूद प्राइवेट प्रैक्टिस कर रहे हैं। मेडिकल कॉलेज ने इस संबंध में सभी विभागाध्यक्षों को जानकारी दे दी है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS