Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
राहुल गांधी के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज करने के लिए दायर याचिका पर सुनवाई 26 तक टलीराहुल के ‘चोकीदार चोर है’ अभियान के बचाव में आई कांग्रेसप्रधानमंत्री मोदी के विकास कार्यों की विरासत को आगे बढ़ाऊंगा: गौतम गंभीरभाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी, रमेश बिधूड़ी सहित गौतम गंभीर और हंसराज हंस ने दाखिल किया नामांकनउप्र में तीसरे चरण का मतदान समाप्त, मुलायम समेत 120 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में कैदअखिलेश की सभा में तोड़ी कुर्सियां, नारेबाजी के कारण डिंपल नहीं दे पायीं पूरा भाषणफरीदाबाद को गुंडाराज से मुक्ति दिलाएंगे नवीन जयहिंद : सिसोदियासुषमा, शिवराज व तीन पूर्व मंत्रियों की मौजदगी में भरा भाजपा उम्मीदवार भार्गव ने नामांकन
मध्य प्रदेश
मालवा-निमाड़ में परिवारवाद से ऊपर नहीं उठ पा रही भाजपा-कांग्रेस
By Swadesh | Publish Date: 8/11/2018 3:30:32 PM
मालवा-निमाड़ में परिवारवाद से ऊपर नहीं उठ पा रही भाजपा-कांग्रेस

इंदौर। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही प्रमुख राजनैतिक दल मप्र विधानसभा चुनाव के दौरान परिवारवाद से ऊपर उठते नहीं दिख रहे। कांग्रेस अपने उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी कर चुकी है। इसी तरह बीजेपी ने भी दो तिहाई से ज्यादा सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं, लेकिन दोनों ही दलों के आलाकमान को अपनी ही पार्टी की अंदरूनी परिवारिक राजनीति से दो-चार होना पड़ रहा है। मालवा-निमाड़ क्षेत्र के केंद्र कहे जाने वाले इंदौर शहर में ही बीजेपी-कांग्रेस में परिवारवाद के चलते खींचातान साफ दिखाई देने लगी है।

 
बीजेपी में इंदौर लोकसभा सीट से सांसद और लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन खुद बेटे मंदार महाजन के लिए विधानसभा टिकट चाहती हैं। बीजेपी राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भी बेटे आकाश विजयवर्गीय को विस चुनाव लड़ाना चाहते हैं और इसके लिए वे अपने बेटे के लिए सुरक्षित इंदौर विस सीट क्रमांक-02 से टिकट मांग रहे हैं। इस सीट से पहले कैलाश विजयवर्गीय, फिर उनके सहायक रहे रमेश मेंदोला जीत चुके हैं। विजयवर्गीय तो अपने बेटे के लिए खुद को विस चुनाव से अलग रखने और टिकट नहीं लेने तक की बात कर चुके हैं। बीजेपी की इसी लड़ाई के चलते इंदौर की विस सीटों को लेकर अब तक आलाकमान फैसला नहीं कर पाया है।
 
ऐसा नहीं कि परिवारवाद सिर्फ बीजेपी पर हावी है। कांग्रेस में तो परिवारवाद के चलते बगावत अब सामने है। इंदौर क्रमांक-01 से प्रीति अग्निहोत्री को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है, जबकि इसी सीट से प्रबल दावेदार गोलू अग्निहोत्री की पत्नी है। गोलू अग्निहोत्री पिछले चुनाव में भी टिकट के दावेदार रहे हैं। इसी तरह इंदौर क्रमांक-04 से सरदार सुरजीत सिंह को कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है। जो शहर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उजागरसिंह के पुत्र हैं। इंदौर क्रमांक-03 से कांग्रेस सरकार के समय शेडो-सीएम कहे जाने वाले महेश जोशी अपने पुत्र पिंटू जोशी के लिए दम लगा चुके हैं। वैसे पार्टी ने टिकट अश्विनी जोशी को दिया, जो महेश जोशी के भतीजे हैं और इस सीट से तीन बार विधायक रह चुके हैं। इसी तरह इंदौर देहात की देपालपुर सीट से विशाल पटेल को उम्मीदवार बनाया है, जो कांग्रेस नेता जगदीश पटेल के पुत्र हैं।
 
कांग्रेस अब तक अपने उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी कर चुकी है। इस चौथी सूची के साथ अब तक कांग्रेस मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 211 उम्मीदवारों की घोषणा कर चुकी है। मध्यप्रदेश विधानसभा की 230 सीटों के लिए 28 नवम्बर को मतदान होंगे। मतगणना 11 दिसम्बर को होगी। 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS