मध्य प्रदेश
मतगणना में सतर्कता बरतें जिला निर्वाचन अधिकारी
By Swadesh | Publish Date: 5/12/2018 2:52:41 PM
मतगणना में सतर्कता बरतें जिला निर्वाचन अधिकारी

उज्जैन। भारत निर्वाचन आयोग के चुनाव आयुक्त ने विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से 11 दिसम्बर को पांचों राज्यों में होने वाली मतगणना के बारे में जिला निर्वाचन अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए है । इन अधिकारियों को मतगणना की संपूर्ण प्रक्रिया पूरी सतर्कता बरतते हुए संपन्न कराने को कहा गया है ।

विडियो कांफ्रेंसिंग में मतगणना की प्रक्रिया को पॉवर पाइन्ट प्रजेंटेशन के माध्यम से विस्तारपूर्वक पांचों राज्यों के जिला निर्वाचन अधिकारियों को बताया गया। प्रत्येक मतगणना हॉल में 14 मतगणना टेबलों तथा रिटर्निंग आफिसरों की टेबल लगाई जाएंगी। 
 
प्रत्येक मतगणना हॉल में हर मतगणना टेबल के लिए बैरिकेट जालीनुमा जगाए जाने चाहिए, ताकि मतगणना अभिकर्ता को कंट्रोल यूनिट को हैंडल करने से रिटर्निंग आफिसर रोक सके, तथापि मतगणना अभिकर्ता को मतगणना टेबल पर सम्पूर्ण मतगणना प्रक्रिया देखने के लिए सभी जरूरी सुविधाएं दी जानी चाहिए। मतगणना हॉल में कोई भी अभ्यर्थी या उनके गणना एजेन्ट प्रतिबंधित रहेंगे, वे केवल रिटर्निंग आफिसर की टेबल तक आ सकते हैं। 
 
चुनाव आयुक्त ने पांचों राज्यों के जिला निर्वाचन अधिकारियों को मतगणना के बारे में निर्देश देकर निष्पक्ष एवं पारदर्शिता के साथ मतगणना संपन्न कराने को कहा। आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारियों की जिज्ञासाओं का भी समाधान किया। 
 
प्रात: 8 बजे शुरू होगी मतगणना 
विधानसभा निर्वाचन-2018 के लिए 11 दिसम्बर को सभी जिलों में रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा प्रात: 8 बजे से आयोग द्वारा अनुमोदित मतगणना स्थलों में मतगणना प्रारंभ होगी। जिले की सातों विधानसभा की मतगणना इन्दौर रोड स्थित शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय के अलग-अलग गणना कक्षों में प्रात: 8 बजे से की जाएगी।
 
एक्जिट पोल पर 7 दिसम्बर तक प्रतिबंध
भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी अधिसूचना अनुसार विधानसभा निर्वाचन 2018 के संबंध में 7 दिसम्बर को सायं 5.30 बजे तक एक्जिट पोल पर प्रतिबंध लगाया गया है। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 126क के प्रावधानों के अनुसार आयोग द्वारा अधिसूचना अवधि में कोई एक्जिट पोल, एक्जिट ओपिनियन आयोजित करना और उसका परिणाम प्रकाशित करना एवं प्रसारित करना प्रतिबंधित रहेगा।
 
वीवीपेट पर्ची का मिलान मतों से होगा
प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केन्द्र का चुनाव रेण्डम आधार किया जाकर, उस मतदान केन्द्र में उपयोग हुए वीवीपेट की स्लिपों का मिलान ईवीएम के कंट्रोल यूनिट में प्रदर्शित परिणाम से अनिवार्यत: किया जाएगा। यह कार्य अभ्यर्थियों/निर्वाचन अभिकर्ताओं एवं केन्द्रीय प्रेक्षक की उपस्थिति में होगा। इसकी वीडियोग्राफी भी करवाई जाएगी। मतगणना हॉल के अन्दर ही वीवीपेट की स्लिप से अनिवार्य सत्यापन के लिए व्यवस्था की जाएगी। इस मतगणना के लिए वीवीपेट काउंटिंग बूथ का निर्माण, जिसमें जालीनुमा कवरेज होगा, जैसा कि बैंक के कैशियर का होता है, जिससे किसी भी अन्य व्यक्ति की पहुंच वीवीपेट की स्लिप तक न हो। इसके लिए रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा सभी अभ्यर्थियों को पूर्व में ही सूचना दी जाएगी। 
 
मतदान केन्द्र के चयन के लिए एक गुणा एक इंच आकार के सफेद कागज पर मतदान केन्द्रों के नम्बर लिखकर कंटेनर में डाले जाएंगे और पर्ची निकालकर, केन्द्र का रेण्डम चयन होगा। यह कार्य ईवीएम से गणना के अंतिम राउण्ड के तत्काल बाद किया जाएगा। यह कार्य केन्द्रीय प्रेक्षक की उपस्थिति एवं कड़ी निगरानी में होगा। परिणाम घोषणा के पूर्व रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा वीवीपेट की स्लिप की गणना पश्चात कंट्रोल यूनिट के परिणाम से मिलान कर एक सत्यापन पत्रक जारी किया जाएगा।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS