मध्य प्रदेश
कमिश्नर ने की लोकसभा चुनाव तैयारियों की समीक्षा
By Swadesh | Publish Date: 7/2/2019 5:20:50 PM
कमिश्नर ने की लोकसभा चुनाव तैयारियों की समीक्षा

मंदसौर। उज्जैन संभाग के अजीत कुमार ने गुरुवार को मंदसौर जिला मुख्यालय पर लोकसभा निर्वाचन 2019 से जुड़े सभी नोडल अधिकारियों एवं जिलाधिकारियों की बैठक लेकर अब की गई निर्वाचन संबंधी तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि अधिकारी लोकसभा निर्वाचन के संबंध में आवश्यक तैयारियां समय से पूर्ण कर लें। निर्वाचन में लगे सभी अधिकारी अपने-अपने कर्तव्य को गंभीरता पूर्वक निभाएं। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर तुरंत जिला अधिकारी से संपर्क करें तथा समस्या का समाधान करवाएं। 

 
उन्होंने कहा कि सभी रिटर्निंग ऑफिसर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी मतदाता सूची में ऐसे बूथ जहां नये मतदाताओं के नाम ज्यादा संख्या में जुड़े हैं और ऐसे केन्द्र जहां औसत से अधिक मतदाताओं के नाम कम हुए हैं, उसकी अच्छी तरह से बूथवार सत्यापन कर लें। बैठक में कमिश्नर अजित कुमार ने मतदाता सूची पुननिरीक्षण कार्य, जेण्डर रेशो, ईपीरेशो, मिसिंग वोटर, मतदान केन्द्रो पर रेम्प निर्माण, पीडब्लूडी, वोटर की संख्या, वाहन व्यवस्था, मतदान कर्मचारियों की व्यवस्था, ईव्हीएम की उपलब्धता, स्वीप प्लान, मतगणना केन्द्र, प्रशिक्षण कार्यक्रम, पुलिस एवं सुरक्षा व्यवस्था,सुरक्षा बलो की उपलब्धता का आंकलन आदि बिन्दुओं पर भी विस्तार से समीक्षा की। 
 
उन्होंने कहा कि सम्पत्ति विरूपण अधिनियम के तहत कार्यवाही सतत जारी रहनी चाहिए। बैठक में निर्वाचन से जुड़ी जानकारियों को पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम लोक सेवा केंद्र के प्रबंधक वैभव कुमार बेरागी द्वारा प्रदान की गई। बैठक में जिला निर्वाचन अधिकारी धनराजू एस, पुलिस अधीक्षक तुषारकांत विद्यार्थी, अपर कलेक्टर, एडिशनल एसपी सहित सभी नोडल अधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी उपस्थित थे।
 
गर्मी में जल संकट न पैदा हो इसके लिए कार्य योजना बनाएं
संभागायुक्त अजीत कुमार द्वारा निर्वाचन की समीक्षा बैठक लेने के पश्चात सभी जिला अधिकारियों की समीक्षा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग आगामी गर्मी के दिनों में जिले में जल संकट की स्थिति निर्मित न हो, इसके लिए अभी से कार्य योजना निर्मित की जाए। साथ ही ऐसे क्षेत्र जहां पर विशेष तौर पर जल संकट की स्थिति निर्मित होती हैं ऐसे क्षेत्र को चिन्हित करे।
 
जल संसाधन विभाग द्वारा जिले में भविष्य के लिए कौन से प्रोजेक्ट निर्मित किए गए हैं एवं किन प्रोजेक्ट की संभावना है। उनकी डीपीआर एवं सर्वे की जानकारी के बारे में जानकारी ली गयी। कलेक्टर को निर्देश देते हुवे कहा कि पीआईयू द्वारा बन रहे प्रोजेक्ट एवं निर्माणाधीन कार्यों का भ्रमण कर उनकी प्रगति की समीक्षा करते रहे।
 
जिला संयोजक एट्रोसिटी एक्ट के प्रकरणों में तत्परता बरते
जिला संयोजक आदिम जाति कल्याण विभाग को निर्देश देते हुए कहा कि एट्रोसिटी एक्ट के प्रकरणों में बहुत विलंब न करे। इसकी और विशेष तौर पर ध्यान दिया जाए इस तरह के प्रकरणों की कार्यवाही में ततपरता बरते। महिला बाल विकास विभाग से बालिका गृह के बारे में विस्तार से जानकारी ली। इसके साथ ही वन स्टॉप सेंटर एवं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की वर्तमान में जिले की क्या स्थिति है की समीक्षा की। इसके साथ ही जिले में गर्भवती महिलाएं, शिशुधारी महिलाएं की कुल संख्या एवं उनको योजनाओं द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभ के बारे में जानकारी ली। 
 
जिला खनिज अधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि 31 मार्च तक राज्य सरकार द्वारा दिये टारगेट को पूर्ण करें। जिला शिक्षा अधिकारी साइकिल वितरण कार्य समय से पहले पूर्ण करें। अगर स्कूलों को साइकिले प्राप्त नहीं हुई है तो उन्हें तुरंत पहुचाये। इसके साथ ही आईआरडीए, पीडब्ल्यूडी, डीएसओ, कृषि, पशुपालन, उद्यानिकी विभागों से विभाग की कार्य योजना के बारे में विस्तार से चर्चा की गई।
 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS