मध्य प्रदेश
कांताराव ने देखी ईवीएम की एफएलसी प्रक्रिया, की लोकसभा चुनाव तैयारियों की समीक्षा
By Swadesh | Publish Date: 7/2/2019 5:21:05 PM
कांताराव ने देखी ईवीएम की एफएलसी प्रक्रिया, की लोकसभा चुनाव तैयारियों की समीक्षा

देवास। मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव गुरुवार को एक दिवसीय प्रवास पर देवास पहुंचे। यहां उन्होंने सबसे पहले बैंक नोट प्रेस परिसर पहुंचकर इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) की प्रथम स्तरीय जांच (एफएलसी) की प्रक्रिया का अवलोकन किया। उन्होंने ईवीएम मशीनों के कंट्रोल यूनिट व बैलेट यूनिट की क्लीनिंग को जाकर देखा, वहीं कंट्रोल यूनिट में से पुराने डाटा को क्लीयर करने के बाद प्रत्येक मशीन में सभी 16 बटनों के लिए एक-एक वोट डालकर मशीनों को चेक करने की प्रक्रिया को भी देखा। उन्होंने प्रथम स्तरीय जांच के दौरान उपस्थित मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से चर्चा की तथा उनके विचार भी जाने। वहीं, उन्होंने अधिकारियों की बैठक लेकर आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा भी की।

 
गौरतलब है कि प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में ईवीएम की एफएलसी का कार्य गत दो फरवरी को शुरू हुआ था, जो सभी ईवीएम की एफएलसी पूरी होने तक जारी रहेगा। देवास के बीएनपी परिसर में एफएलसी की कार्यवाही बीईएल के अधिकारियों-कर्मचारियों के मार्गदर्शन में की जा रही है। गुरुवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कांताराव ने एफएलसी कार्य का निरीक्षण किया। इसके बाद वे उज्जैन रोड स्थित निर्माणाधीन ईवीएम गोदाम का निरीक्षण करने पहुंचे। यहां उन्होंने निर्माणधीन भवन के प्लाट एरिया तथा ले आउट के संबंध में चर्चा की तथा गोदाम भवन निर्माण का कार्य समय सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने गोदाम में ईवीएम व वीवीपेट मशीन रखने के लिए कक्षों का भी अवलोकन किया। 
 
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव बाद में निर्वाचन रजिस्ट्रीकरण अधिकारी देवास के कार्यालय का निरीक्षण करने भी पहुंचे। यहां उन्होंने मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण कार्यक्रम के तहत प्राप्त दावे-आपत्तियों फॉर्म-6, 7 व 8 के संबंधी आवेदनों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने देवास विधानसभा क्षेत्र में एक जनवरी 2019 की स्थिति में 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके नये मतदाताओं की संख्या के बारे में पूछताछ की, वहीं ऐसे वोटर जिनके नाम में दोहराव या संदेहास्पद हैं उनकी सुनवाई कर हटाने की प्रगति के संबंध में भी विस्तार से चर्चा का निर्देश दिए।
 
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कांताराव ने भ्रमण के उपरांत कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में आगामी लोकसभा निर्वाचन-2019 के लिए नियुक्त नोडल अधिकारियों की बैठक ली तथा आगामी लोकसभा निर्वाचन की तैयारियों के लिए अब तक की गई कार्रवाइयों की समीक्षा की। उन्होंने देवास जिले में मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण कार्य की विस्तार से समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि जिले में कुल 32 हजार नए आवेदन मतदाता सूची में नाम जोडऩे हेतु प्राप्त हुए हैं। उन्होंने हाल ही में 18 वर्ष की आयु पूर्ण करने वाले मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में जोडऩे पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कॉलेजों में कैम्प/सेमिनार आयोजित करने तथा बूथ केंद्रित स्वीप गतिविधियां के आयोजन के निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि जिले में लगभग 14 हजार ऐेसे नये युवा मतदाता के नाम जोड़े गए हैं, जिन्होंने 01 जनवरी 2019 की स्थिति में 18 वर्ष की आयु पूर्ण की है।
 
बैठक में कान्ताराव ने नए मतदाताओं तथा मतदाता परिचय पत्र में संशोधन उपरांत ईपिक कार्ड वितरण की समीक्षा की तथा निर्देश दिए कि 20 फरवरी 2019 तक सभी नवीन मतदाताओं के साथ ही संशोधन हेतु प्राप्त ईपिक कार्ड का वितरण सुनिश्चित कराएं। कलेक्टर डॉ. पाण्डेय ने बताया कि जिले में पुनरीक्षण अभियान के तहत लगभग 32 हजार नए ईपिक कार्ड तथा 23 हजार कार्ड संशोधित कर वितरण की कार्यवाही प्रचलित है। अब तक 37 हजार ईपिक कार्ड का वितरण किया जा चुका है। बैठक में बताया गया कि यदि किसी नए मतदाताओं के ईपिक कार्ड या संशोधन वाले ईपिक कार्ड संबंधित मतदाता को 20 फरवरी 2019 तक प्राप्त नहीं होता है तो वह मतदाता काल सेंटर के दूरभाष क्रमांक 1950 पर शिकायत दर्ज कराएं तथा अपना मतदाता परिचय पत्र प्राप्त कर सकता है।
 
बैठक में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार "रूल ऑफ लॉ’’ के तहत अवैध शराब की बिक्री व परिवहन के रोकथाम, मोटर वाहन अधिनियम के तहत नेमप्लेट, हूटर, सर्च लाइट हटाने की कार्यवाहियां, पुलिस द्वारा प्रतिबंधात्मक कार्यवाहियां तथा संपत्ति विरूपण की रोकथाम अधिनियम के तहत पिछले एक माह में की गई कार्यवाहियों की समीक्षा की तथा निर्देश दिए कि ये कार्यवाहियां सतत रूप से जारी रहें। उन्होंने मोटर वाहन अधिनियम तथा अवैध शराब की बिक्री की रोकथाम हेतु विभागीय अधिकारियों के अलावा पुलिस को भी पृथक से कार्यवाहियों करने के निर्देश दिए।
 
कलेक्टर डॉ. पाण्डेय ने आगामी लोकसभा निर्वाचन-2019 के संबंध में देवास जिले में अब तक की तैयारियों का पावर पाइंट प्रेजेनटेशन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि जिले में आज की स्थिति में 10 लाख 91 हजार 911 मतदाता हैं तथा 1427 मतदान केंद्र हैं। उन्होंने बताया कि मतदान केंद्रों पर न्यूनतम बुनियादी सुविधाएं की व्यवस्था कराई जा रही है। बैठक में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कान्ता राव ने देवास जिले में आगामी लोकसभा निर्वाचन-2019 की तैयारियों पर संतोष प्रकट किया तथा कहा कि देवास जिले में लोकसभा निर्वाचनों के लिए बेहतर तैयारियां की जा रही हैं। इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय, पुलिस अधीक्षक अनुराग शर्मा, अपर कलेक्टरद्वय नरेंद्र सूर्यवंशी, नीता राठौर, उप जिला निर्वाचन अधिकारी राजेंद्र रघुवंशी, संयुक्त कलेक्टर शोभाराम सोलंकी, एसडीएम जीवनसिंह रजक व नोडल के अधिकारी उपस्थित थे।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS