देश
प्रधानमंत्री के दबाव में आयोग ने पश्चिम बंगाल में घटाया चुनाव प्रचार का समय-मायावती
By Swadesh | Publish Date: 16/5/2019 1:08:10 PM
प्रधानमंत्री के दबाव में आयोग ने पश्चिम बंगाल में घटाया चुनाव प्रचार का समय-मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार पर समय से पहले रोक को लेकर चुनाव आयोग पर निशाना साधा है।

मायावती ने गुरुवार को यहां कहा कि चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में आज रात दस बजे से चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है। इससे पहले आज वहां प्रधानमंत्री की दिन में दो रैलियां हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के दबाव में चुनाव आयोग ने प्रचार रोका है। 
 
मायावती ने कहा कि चुनाव आयोग को अगर प्रतिबंध लगाना था तो आज सुबह से क्यों नहीं लगाया, यह अनुचित है। इसकी वह कड़ी निंदा करती हैं। इससे साफ है कि वर्तमान मुख्य चुनाव आयुक्त के रहते चुनाव हुए फ्री ऐंड फियर नहीं हो पा रहा है। लोकतंत्र को आघात पहुंच रहा है। यह बहुत ही शर्मनाक और निंदनीय है। 
 
उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग दबाव में काम कर रहा है। पश्चिम बंगाल को भाजपा ने अशांत किया है। गुरु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके चेले अमित शाह हाथ धोकर ममता बनर्जी के पीछे पड़े हैं जो न्याय संगत नहीं है। ममता बनर्जी को टारगेट किया जा रहा है। यह बंगाल सरकार के बदनाम करने की कोशिश है। यह सब प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता है।
 
बसपा सुप्रीमो ने आरोप लगाया कि भाजपा की केंद्र सरकार की पूरी शक्ति के साथ बंगाल की गैर भाजपा सरकार पर तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। भाजपा और नरेंद्र मोदी की कोशिश यह है कि बंगाल के मुद्दे को इतना ज्यादा गरमाया जाए कि बाकी मुद्दों, उनकी विफलताओं और सरकार की असफलता से लोगों का ध्यान हट जाए। जनता भाजपा की साजिश अच्छे से समझ रही है। उत्तर प्रदेश की तरह अब बंगाल की जनता भी भाजपा को सबक सिखाएगी। 
 
बसपा सुप्रीमो ने कहा कि यह स्पष्ट है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और उनके नेता ममता बनर्जी को निशाना बना रहे हैं। यह एक बहुत ही खतरनाक और अन्यायपूर्ण प्रवृत्ति है।  गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति का हवाला देते हुए राज्य में आज रात दस बजे से ही चुनाव प्रचार प्रतिबंधित कर दिया है।   
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS