Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पाकिस्तान में तालिबान के हमले में दो सुरक्षाकर्मियों की मौतविक्रमसिंघे से मुलाकात में सुषमा ने की विकास परियोजनाओं की समीक्षामहाकाल के दर पर पहुंचे हार्दिक, बोले-लोगों को जागरूक करने से होगा देश का निर्माणदुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दो की मौत, धारा 144 लागूबीजापुर में पुलिस व नक्सलियों के बीच मुठभेड़, तीन नक्सली ढेर और छह घायलजम्मू/कश्मीर निकाय चुनाव: अब तक के परिणाम में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरीअमृतसर रेल हादसा: मुख्यमंत्री अमरिंदर ने दिए मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश, अमृतसर में तीन दिनों का शोकविजयादशमी पर्व पर अमृतसर में हुए रेल हादसे पर कांग्रेस नेताओं ने दुख व्यक्त किया
देश
राफेल विमान सौदे पर कांग्रेस का संसद में फिर हंगामा
By Swadesh | Publish Date: 10/8/2018 12:56:32 PM
राफेल विमान सौदे पर कांग्रेस का संसद में फिर हंगामा

नई दिल्ली। संसद के मॉनसून सत्र के आखिरी दिन ​विपक्ष का जोरदार हंगामा देखने को मिला। कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियों ने राफेल डील मुद्दे पर संसद के बाहर विरोध प्रदर्शन किया जिसमें यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी भी शामिल हुई। सोनिया गांधी ने राफेल डील मामले की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति बनाने की मांग की।

राफेल डील के मुद्दे पर संसद परिसर में जारी विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस, सीपीआई, राष्ट्रीय जनता दल और आम आदमी पार्टी के सांसदों ने भी हिस्सा लिया। वहीं सोनिया गांधी ने कहा कि तीन तलाक बिल को लेकर कांग्रेस पार्टी की स्थिति पहले से स्पष्ट है, वो इसके आगे कुछ भी नहीं कहेंगी। इसके अलावा कांग्रेस ने सदन में भी इस मुद्दे को उठाया। राज्यसभा में कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि विपक्ष को एक बार भी मौका नहीं मिला है और हम चाहते हैं राफेल डील पर चर्चा हो, हमने इसपर नोटिस भी दिया है। आजाद ने कहा कि राफेल विश्व का सबसे बड़ा घोटाला है और इसपर जेपीसी बननी ही चाहिए। 

वहीं इसके जवाब में विजय गोयल ने कहा कि संसद कानून बनाने के लिए है न कि बेबुनियाद और झूठे आरोप लगाने के लिए। उन्होंने कहा कि आप प्रधानमंत्री पर झूठे आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आप लोगों ने सदन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को बोलने नहीं दिया, किसानों के मुद्दे पर चर्चा नहीं होने दी गई। गोयल ने कहा कि सदन में किसी को प्रधानमंत्री पर झूठे आरोप लगाने का अधिकार नहीं है। 

 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS