Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पाकिस्तान में तालिबान के हमले में दो सुरक्षाकर्मियों की मौतविक्रमसिंघे से मुलाकात में सुषमा ने की विकास परियोजनाओं की समीक्षामहाकाल के दर पर पहुंचे हार्दिक, बोले-लोगों को जागरूक करने से होगा देश का निर्माणदुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दो की मौत, धारा 144 लागूबीजापुर में पुलिस व नक्सलियों के बीच मुठभेड़, तीन नक्सली ढेर और छह घायलजम्मू/कश्मीर निकाय चुनाव: अब तक के परिणाम में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरीअमृतसर रेल हादसा: मुख्यमंत्री अमरिंदर ने दिए मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश, अमृतसर में तीन दिनों का शोकविजयादशमी पर्व पर अमृतसर में हुए रेल हादसे पर कांग्रेस नेताओं ने दुख व्यक्त किया
देश
मोतिहारी में दर्दनाक हादसा, सेप्टिक टैंक में दम घुटने से एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत
By Swadesh | Publish Date: 10/8/2018 1:42:07 PM
मोतिहारी में दर्दनाक हादसा, सेप्टिक टैंक में दम घुटने से एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत

मोतिहारी। मोतिहारी के जीतपुर में आज का दिन बेहद ही दुखदाई रहा। यहां एक दर्दनाक घटना घटी जब एक लड़का सेप्टिक टैंक में गिर गया और उसको बचाने के लिए परिवार के अन्य 5 लोग जब सेप्टिक टैंक में उतरे, जिसके बाद उनकी भी दम घुटने से मौत हो गई।
जानकारी के मुताबिक बनकटवा प्रखंड के जीतपुर गांव में एक घर में एक सेप्टिक टैंक का निर्माण हो रहा था। इसी क्रम में एक 15 वर्षीय मोहन महतो गलती से इस सेप्टिक टैंक में गिर गया। लड़के के सेप्टिक टैंक में गिरने की खबर जैसे ही परिवार वालों को पता चली, घर में अफरा-तफरी का माहौल हो गया और उसे बचाने के लिए परिवार के सभी लोग सेप्टिक टैंक के समीप पहुंच गए।
मोहन को सेप्टिक टैंक से निकालने के क्रम में परिवार के पांच लोग भी सेप्टिक टैंक में कूद पड़े और दम घुटने की वजह से सभी की मौत हो गई। चश्मदीदों के मुताबिक मोहन के सेप्टिक टैंक में गिरने के बाद सबसे पहले उसके पिता दिनेश महतो उसे बचाने के लिए उस में कूद गए। इसके बाद मोहन की मां बच्ची देवी और भाई धोनी महतो भी सेप्टिक टैंक में कूद गए। कुछ ही देर में गांव का एक ग्रामीण सरोज मुखिया और सचिन महतो मोहन को बचाने के लिए सेफ्टी टैंक में कूद पड़े। जहरीली गैस की चपेट में आने और दम घुटने की वजह से सभी की मौत हो गई।
घटना के बाद पूरे गांव में हाहाकार का माहौल हो गया और चारों तरफ चीख पुकार मच गई। इस घटना से गुस्साए स्थानीय ग्रामीणों ने थोड़ी देर में आक्रोशित हो गए और इलाके में आगजनी कर हंगामा करने लगे. आक्रोशित गांव वालों को शांत कराने के लिए पुलिस मौके पर पहुंची तो गांव वालों ने उन पर हमला कर दिया और उन पर पत्थरबाजी की. आक्रोशित गांव वालों ने पुलिस को खदेड़ दिया और बाद में पास के अस्पताल में भी हमला बोल दिया और वहां जाकर जमकर तोड़फोड़ की।
माहौल को शांत करने के लिए कई पुलिस थानों को बुलाया गया। गांव वालों ने पुलिस के साथ हुई झड़प की जिसमें एक डीएसपी बुरी तरीके से घायल हो गए। आक्रोशित गांव वाले पीड़ित परिवार के लिए मुआवजे की मांग कर रहे थे।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS