Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
पीएमओ प्रवक्ता जगदीश ठक्कर का निधन, प्रधानमंत्री ने परिजनों से मुलाकात कर जताया शोकशिक्षा ही अच्छे व्यक्ति व समाज के निर्माण की आधारशिला-राष्ट्रपति कोविंदसुप्रीम कोर्ट ने केरल के 'लव जिहाद' मामले में एनआईए की रिपोर्ट लौटाईअन्याय, भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती रहेगी एनएपीएम : ऊषाजम्मू एवं कश्मीर विस को भंग करने के राज्यपाल के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिजनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसनिजामुद्दीन दरगाह के गर्भगृह में प्रवेश की अनुमति देने संबंधी याचिका पर नोटिसलोकपाल के सेलेक्शन पैनल में विपक्ष के नेता को शामिल करने के लिए याचिका
मध्य प्रदेश
म.प्र. विधानसभा चुनाव में खिलेगा कमल या कमलनाथ करेंगे कमाल
By Swadesh | Publish Date: 20/11/2018 1:04:46 PM
म.प्र. विधानसभा चुनाव में खिलेगा कमल या कमलनाथ करेंगे कमाल

भोपाल। जैसे-जैसे चुनाव की तारीख करीब आ रही है, वैसे-वैसे सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले दोनों ही पार्टियों का एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जोरों पर है। हाल ही में विभिन्न मीडिया चैनलों द्वारा कराए गए ओपिनियन पोल को देख कर लगता है कि प्रदेश की दोनों ही बड़ी पार्टियां भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर होने वाली है। 

 
गत 9 नवम्बर को टाइम्स नाउ सीएनएस द्वारा जारी हुए सर्वे में बीजेपी को 122 सीटें मिल रही है, वहीं कांग्रेस को 95 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि 13 सीटें अन्य खाते में जा रही है। यानी स्कूल में बीजेपी को कुल 27 सीटों की बढ़त मिल रही है। इसी दिन आए एबीपी न्यूज़ सीएसडीएस के ओपिनियन पोल के मुताबिक बीजेपी को 116, कांग्रेस को 105 सीटें मिल रही है, वहीं 9 सीटें अन्य के खाते में जा रही है। यहां दोनों ही पार्टियों में कांटे की टक्कर देखी जा सकती है। वहीं कुछ ओपिनियन पोल में कांग्रेस को भी बढ़त मिलती दिख रही है। एबीपी न्यूज़ सी वोटर्स सर्वे के मुताबिक बीजेपी को 106 सीटें मिल रही है जबकि कांग्रेस को 118 सीटें मिलने वही 8 अन्य के खाते में जाती दिख रही हैं।
 
प्रदेश में कुल 230 सीटें हैं जिसमें 35 सीट अनुसूचित जाति और 47 सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। चुनाव आयोग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक इस बार प्रदेश में कुल पांच करोड़ तीन लाख 34 हजार दो सौ साठ मतदाता हैं। इस बार के विधानसभा चुनाव में मतदान केंद्रों की संख्या में भी काफी इजाफा हुआ है। साल 2013 में जहां 53 हजार 896 मतदान केद्र थे वही इस बार के चुनाव में बढ़कर 65 हजार 341 हो गया है। 11 नवंबर को वोटों कि गिनती होनी है जिसके बाद यह पता चल पाएगा कि मध्य प्रदेश कि जनता किस पार्टी को प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाती है।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS