Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
चुनावी शंखनाद के बाद फिर 27-28 सितंबर को मध्य प्रदेश आएंगे राहुलपदमा शुक्ला हुई बागी, भाजपा का साथ छोड़ थामा कांग्रेस का हाथUN ग्लोबल मीडिया कॉम्पैक्ट में भारत का सूचना प्रसारण मंत्रालय शामिलकांग्रेस का वित्त मंत्री पर पलटवार, 'मोदी सल्तनत के दरबारी विदूषक' बनने को बेताब हैं अरुण जेटलीजम्मू कश्मीर : नियंत्रण रेखा के पास सुरक्षाबलों का आतंक निरोधक अभियान, 3 आतंकियों को किया ढेरपश्चिम बंगाल में एक और हादसा, दक्षिण 24 परगना जिले में गिरा निर्माणाधीन पुलशिवराज सरकार में मंत्री दर्जा प्राप्त पदमा शुक्ला ने छोड़ी पार्टी, भाजपा में मचा हड़कंपअब क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों का भी होगा एकीकरण, संख्या घटकर होगी 36
देश
आर्मी की नई गाइडलाइन, जवान अब नहीं करेंगे नौकरों जैसा काम
By Swadesh | Publish Date: 11/7/2018 4:44:02 PM
आर्मी की नई गाइडलाइन, जवान अब नहीं करेंगे नौकरों जैसा काम

 नई दिल्ली। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने 12 लाख सेना समेत आर्मी से रिटायर हो चुके अधिकारियों के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। नई गाइडलाइन के तहत सीएसडी शराब और आर्मी कैंटीन को गलत तरीके से इस्तेमाल करने पर भी सख्त हिदायत दी गई है। रावत ने कहा कि अब किसी भी फौजी से नौकरों (अर्दलियों) जैसा काम नहीं कराया जाएगा। बता दें इस पर काफी बार मुद्दा उठ चुका है कि कई जवानों से अर्दलियों का काम लिया जाता है। जो बड़े अधिकारियों के घर का हर काम देखते हैं।

 
अगर कोई अधिकारी किसी भी रूप से भ्रष्टाचार जैसे मामलों से जुड़े है तो उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। भले ही फिरो वो किसी भी पोस्ट और रैंक पर हो।
 
अब किसी भी रेजीमेंट या स्टेशन में हो रही अजीबो-गरीब चीजें बर्दाश्त नहीं की जाएंगी।
 
सीएसडी शराब और किराने के सामान का दुरुपयोग करते पाया गया, उसके खिलाफ शख्त कार्यवाई की जाएगी।
 
सैनिकों को मिलने वाले खाने में पूड़ी, पकौड़ा और मीठे पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। इसके बदले अब सैनिकों हेल्दी खाना दिया जाएगा। सेना के आंतरिक स्वास्थ्य को सुधारने के लिए कई चीजों में बदलाव किया गया है।
 
रावत द्वारा जारी की गई की इस नई गाइडलाइन पर एक वरिष्ठ आर्मी अधिकारी ने कहा कि जवानों का फिटनेस स्टैंडर्ड लगातार गिर रहा है जिस वजह से यह जरूरी कदम उठाए गए हैं। उल्लेखनीय है कि ज्यादातर यही माना जाता है कि सेना में अनुशासन उच्च स्तर पर है और भ्रष्टाचार बहुत कम। फौजी अनुशासन में रहकर ही हर काम करते हैं यहां तक कि वहां खाने को भी बहुत कम बर्बाद किया जाता है।
 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS