देश
संयुक्त विकास आयुक्त ने किया विकास कार्यों का भौतिक सत्यापन
By Swadesh | Publish Date: 6/12/2018 4:00:13 PM
संयुक्त विकास आयुक्त ने किया विकास कार्यों का भौतिक सत्यापन

चित्रकूट। शासन के निर्देश पर जिले में हो रहे विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण और सत्यापन करने आये कानपुर मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त प्रशांत कुमार श्रीवास्तव ने गुरुवार को सदर ब्लाक के कोलगदहिया गांव का दौरा किया। उन्होंने ग्रामीणों के बीच चौपाल लगाकर केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा संचालित कल्याणकारी योजनाओं का भौतिक सत्यापन किया।इस दौरान मनरेगा मजदूरों की शिकायत एवं मनरेगा की प्रगति शून्य पाये जाने पर नाराजगी जताते हुए संयुक्त विकास आयुक्त ने ग्राम प्रधान और सचिव को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि कार्यप्रणाली में सुधार न हुआ तो सचिव और तकनीति सहायक को सेवा से बर्खास्त करने के लिए शासन को लिखा जायेगा।

 
केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार द्वारा संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं को धरातल पर पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाने की कवायद तेज हो गई है। गुरुवार को शासन के निर्देश पर कानपुर मंडल के संयुक्त विकास आयुक्त प्रशांत कुमार श्रीवास्त ने जिला विकास अधिकारी राजकुमार त्रिपाठी, डीसी मनरेगा अरूण कुमार एवं बीडीओ कर्वी कुलदीप सिंह के साथ सदर ब्लाक के कोलगदहिया गांव का दौरा कर विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया। इस दौरान संयुक्त विकास आयुक्त ने कहा कि सभी ग्रामीण घर में बने शौचालयों का का प्रयोग करें जिससे बीमारियों एवं गंदगी से गांव को बचाया जा सके। 
 
उन्होंने खंड विकास अधिकारी से कहा कि शासन की महत्वाकांक्षी एक जिला 'एक उत्पाद योजना' का को प्रभावी तरीके से लागू कर गांव के बेरोजगार युवक-युवतियों को आजीविका से जोड़ा जाये। इसके अलावा मनरेगा के माध्यम से कार्य सृजित कर गांव के बेरोजगारों को अधिक से अधिक काम दिया जाये। इस दौरान गांव के मजदूर राजकुमार ने बताया कि मनरेगा से गांव के पंजीकृत मजदूरों को कोई काम नहीं मिल रहा है। इसके अलावा पिछले दो वर्षों से गांव के करीब आधा दर्जन से अधिक मजदूरों का भुगतान लम्बित है। इस पर संयुक्त सचिव ने गांव के प्रधान रमेश कुमार, सचिव सुरेंद्र नाथ सिंह एवं तकनीकी सहायक को जमकर फटकार लगाई। 
 
गांव में मनरेगा की प्रगति शून्य मिलने पर संयुक्त सचिव ने कड़ी नाराजगी जताते हुए बीडीओ कुलदीप सिंह से कहा कि गांव के मजदूरों को काम न मिलने पर 'काम नहीं तो दाम नहीं' के सिद्धांत पर मानदेय न दिया जाए। उन्होंने कहा कि चल रहे विकास कार्यों को हर हाल में मार्च तक पूरा कर लिया जाये। इसके अलावा गांव के बकरी पालन करने वालों के लिए गोट शेड बनवाये जाएं। सम्पर्क मार्ग के निर्माण के लिए सहयोग न करने की शिकायत पर संयुक्त विकास आयुक्त ने ग्रामीणों से कहा कि गांव में सड़कों का जाल फैलने पर विकास होगा। 
बीडीओ कुलदीप सिंह ने बताया कि कोलगदहिया गांव में 396 मनरेगा मजदूर पंजीकृत हैं। उनमें से 317 मजदूरों का आधार कार्ड लिंक है। उन्होंने ग्राम प्रधान और सचिव को गांव में अधिक से अधिक रोजगार सृजन कर पंजीकृत मजदूरों को काम देने के निर्देश दिये। साथ ही प्रधानमंत्री आवास एवं शौचालयों के निर्माण में गुणवत्ता की अनदेखी मिलने पर कार्रवाई की चेतावनी दी।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS