देश
राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले में तथ्यात्मक त्रुटियां : प्रशांत भूषण
By Swadesh | Publish Date: 14/12/2018 5:33:58 PM
राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले में तथ्यात्मक त्रुटियां : प्रशांत भूषण

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय द्वारा राफेल युद्धक विमान सौदे में केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार को क्लीन चिट देने के फैसले पर याचिकाकर्ताओं में से एक वकील प्रशांत भूषण ने सवाल उठाये हैं। उनका कहना है कि फैसले में कुछ तथ्यात्मक त्रुटियां हैं।

 
प्रशांत भूषण ने शुक्रवार को कहा कि उच्चतम न्यायालय का फैसला दावा करता है कि अदालत ने वायुसेना के अधिकारियों से मुलाकात की और अधिग्रहण प्रक्रिया और मूल्य निर्धारण विवरण के बारे में उनसे सवाल किया। उन्होंने कहा कि यह वास्तव में गलत है, क्योंकि वायु सेना अधिकारियों से केवल यह पूछा गया था कि राफेल तीसरे, चौथे या पांचवीं पीढ़ी का विमान था या नहीं। उन्होंने कहा कि वायुसेना ने कभी नहीं कहा था कि उन्हें 36 राफेल विमान चाहिए।
 
उन्होंने कहा कि केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने वायुसेना से बिना किसी बातचीत के फ्रांस में जाकर पूर्व निश्चित कीमत से ज्यादा कीमत पर समझौता किया। उन्होंने कहा कि न्यायालय ने इस समझौते में ऑफसेट सहयोगी चुनने के मामले में भी गलत नहीं माना है जबकि रक्षा सौदे में सरकार की बिना सहमति के कोई फैसला नहीं लिया जा सकता है।
 
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS