देश
ब्रिगेड रैली : नोटबंदी, जीएसटी और रफेल को लेकर मोदी सरकार पर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा
By Swadesh | Publish Date: 19/1/2019 4:34:17 PM
ब्रिगेड रैली : नोटबंदी, जीएसटी और रफेल को लेकर मोदी सरकार पर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा

कोलकाता। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बुलावे पर शनिवार को कोलकाता के ब्रिगेड परेड मैदान में पहुंचे भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने संबोधन के दौरान चुन-चुनकर नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर हमला बोला। नोटबंदी, जीएसटी और रफेल सौदे सहित विभिन्न मुद्दे को लेकर उन्होंने मोदी सरकार को निशाने पर लिया। उन्होंने एक तरफ जहां नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी को तानाशाह करार दिया, वहीं कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष राहुल गांधी को चमत्कारी नेता बताया। उन्होंने कहा कि अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति के एक साल के अंदर राहुल गांधी ने जिस चमत्कारी तरीके से देश के तीन बड़े राज्यों में कांग्रेस की सरकार को स्थापित किया है, वह शानदार है।

 
अपने भाषण में शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि बहुत जान है...बहुत जान है... ये बंगाल की क्रांतिकारी नेता ममता बनर्जी का कमाल है। सिन्हा ने कहा कि देश बचाने और संविधान की रक्षा के लिए, नयी दिशा और नया नेतृत्व देने के लिए हम इकट्ठा हुए हैं। नेशन का मूड, हमारा एक ही लक्ष्य है परिवर्तन।
 
बिहारी बाबू ने कहा कि लोग कहते हैं कि आप भाजपा के खिलाफ बोलते हैं। आप पार्टी में रहकर ऐसा करते हैं। तो मैं उनसे कहना चाहता हूं कि अगर सच कहना बगावत है तो समझो मैं बागी हूं। उन्होंने कहा कि मैं सत्य से समझौता नहीं कर सकता। मैं भाजपा में हूं, तो उससे पहले भारत की जनता का हूं। मेरी जवाबदेही सबसे पहले जनता के लिए है। व्यक्ति से बड़ी पार्टी होती है और पार्टी से बड़ा होता है देश। देश से बड़ा और कुछ भी नहीं होता और मैं जो करना चाहता हूं देश हित में है। मैं पार्टी को आइना देखाने की कोशिश करता हूं।
 
वाजपेयी सरकार से मोदी सरकार की तुलना करते हुए सिन्हा ने कहा कि वाजपेयी के जमाने में लोकशाही थी और अभी तानाशाही है। अचानक रातोंरात तुगलकी फरमान से नोटबंदी की घोषणा कर दी गई। निचले तबके के लोगों को खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ा। लोग कहते हैं कि यह पार्टी का फैसला था, लेकिन मैं कहता हूं कि पार्टी का फैसला नहीं था। यदि पार्टी का फैसला होता तो आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, यशवंत सिन्हा सहित अन्य नेताओं को पता होता, मुझे भी पता होता, वित्त मंत्री को भी पता नहीं था। नोटबंदी से हम उबर भी नहीं पाये थे कि जीएसटी हम पर लाद दिया गया। कांग्रेस अध्यक्ष ने जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स करार दिया और उन्होंने बिल्कुल सही करार दिया है।
 
सिन्हा ने कहा, मोदी ने मुख्यमंत्री रहते जीएसटी का विरोध किया था। जीएसटी से फायदा केवल सीए को हुआ। लंगर तक में जीएसटी लग गया, कभी 18 फीसदी तो कभी 28 फीसदी। जीएसटी नीम पर करेला है। उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं कहता हूं कि राफेल मामले में आप दोषी हैं, लेकिन यह भी नहीं कहूंगा कि आप निर्दोष हैं। उन्होंने कहा कि आखिर राफेल सौदे में दाम कैसे बढ़ गए? कांग्रेस के शासनकाल में यह 536 करोड रुपये में खरीदा जा रहा था, जो आप के समय में बढ़कर 1600 करोड़ रुपये हो गया है। आखिर मैं पूछना चाहता हूं कि जब देश की सुरक्षा के लिए 126 राफेल की जरूरत थी, तब आपने केवल 36 राफेल खरीदने का सौदा क्यों किया? इसमें कहीं न कहीं संदेह है। आपको बताना चाहिए, जनता यह जानना चाहती है कि आखिर आप छिपाते क्यों हैं? कहते क्यों नहीं। अगर इसी तरह से छिपाते रहेंगे तो देश की जनता समझेगी चौकीदार चोर है।
 
सिन्हा ने कहा कि जब तक जवाब नहीं देंगे, तब तक सुनते रहेंगे कि चौकीदार चोर है। नये चुनाव आने वाले हैं। वादे किये जा रहे हैं, लेकिन निभाये नहीं जा रहे हैं। चुनाव के पहले नये-नये वादे होंगे और ध्यान बांटने की कोशिश करेंगे, अयोध्या ले जायेंगे। वे लोग बिना नदी के पुल बना देंगे। बोलेंगे कि नदिया नईखे, पुलिया ले लो। एक बार ‍वोट दे दिया था, तो बन जायेंगे फूल।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS