Ad
ब्रेकिंग न्यूज़
राहुल गांधी के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज करने के लिए दायर याचिका पर सुनवाई 26 तक टलीराहुल के ‘चोकीदार चोर है’ अभियान के बचाव में आई कांग्रेसप्रधानमंत्री मोदी के विकास कार्यों की विरासत को आगे बढ़ाऊंगा: गौतम गंभीरभाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी, रमेश बिधूड़ी सहित गौतम गंभीर और हंसराज हंस ने दाखिल किया नामांकनउप्र में तीसरे चरण का मतदान समाप्त, मुलायम समेत 120 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में कैदअखिलेश की सभा में तोड़ी कुर्सियां, नारेबाजी के कारण डिंपल नहीं दे पायीं पूरा भाषणफरीदाबाद को गुंडाराज से मुक्ति दिलाएंगे नवीन जयहिंद : सिसोदियासुषमा, शिवराज व तीन पूर्व मंत्रियों की मौजदगी में भरा भाजपा उम्मीदवार भार्गव ने नामांकन
देश
शहीद दिवस की तारीख भूलने पर ट्रोल हुई कांग्रेस
By Swadesh | Publish Date: 23/3/2019 3:18:26 PM
शहीद दिवस की तारीख भूलने पर ट्रोल हुई कांग्रेस

नई दिल्ली। शहीद दिवस पर कांग्रेस के आधिकारिक ट्वीटर एकाउंट से किया गया एक ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है। इस ट्वीट में कांग्रेस ने भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी देने की तारीख को गलत लिखा है। 

कांग्रेस ने अपने ट्वीट में शहीद दिवस पर राजगुरु भगत सिंह और सुखदेव को याद करते हुए एक फोटो साझा की, जिसमें उनके फांसी देने की तारीख को 24 मार्च बताया गया जबकि 23 मार्च को फांसी दी गई थी। 
 
शहीद दिवस पर कांग्रेस द्वारा किये गए इस ट्वीट को लेकर कई सोशल मीडिय़ा यूजर सवाल उठाने लगे। एक ट्विटर यूजर निखिल दधिची ने लिखा कि जिन भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरु को कांग्रेस ने कभी शहीद नहीं माना और न उचित सम्मान दिया, आज उन्हीं शहीदों को मजबूरी में श्रद्धांजलि देनी पड़ रही हो तो तारीखों में चूक होना स्वाभाविक है।
 
हालांकि कांग्रेस ने फजीहत होने के बाद ट्वीट को हटा लिया है। उसके बाद तारीख में सुधार कर फिर से ट्वीट किया।
 
उल्लेखनीय है कि शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु ने 1928 में लाहौर में एक ब्रिटिश जूनियर पुलिस अधिकारी जॉन सॉन्डर्स की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में दोनों को फांसी की सजा हुई। इसके अलावा शहीद भगत सिंह को केंद्रीय असेंबली में बम फेंकने के मामले में फांसी की सजा सुनाई गई थी। तीनों क्रांतिकारियों को 24 मार्च को फांसी देनी थी लेकिन ब्रिटिश अधिकारियों ने फांसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन से डरकर 23 मार्च को गुपचुप तरीके से फांसी दे दी। 23 मार्च, 1931 को शाम करीब 7 बजकर 33 मिनट पर भगत सिंह और उनके दोनों साथी सुखदेव और राजगुरु को फांसी दे दी गई थी।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS