Top
undefined

आरबीआई गवर्नर का बड़ा ऐलान, कैश की कमी नहीं होगी, वित्तीय नुकसान को कम करने की कोशिश की जा रही है.

कोरोना संक्रमण के बीच देश की अर्थव्यवस्था को संकट से उबारने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने शुक्रवार को फिर कई बड़े ऐलान किए. इस दौरान आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना संक्रमण के चलते दुनियाभर की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है, लेकिन दूसरे देशों की तुलना में भारत के हालात बेहतर हैं.

आरबीआई गवर्नर का बड़ा ऐलान, कैश की कमी नहीं होगी, वित्तीय नुकसान को कम करने की कोशिश की जा रही है.
X

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संकट से दुनिया भर की अर्थव्यवस्था चौपट हो गई है. भारत में भी संकट के बादल छाए हुए हैं. ऐसे में देश की अर्थव्यवस्था को संकट से उबारने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने शुक्रवार को फिर कई बड़े ऐलान किए हैं. इस दौरान आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि कोरोना संक्रमण के चलते दुनियाभर की इकोनॉमी प्रभावित हुई है, लेकिन दूसरे देशी को तुलना में भारत के हालात बेहतर हैं. उन्होंने कहा कि अंधेरे के वक्त हमें उजाले की तरफ देखना है.

गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि मार्च 27, जब वह पहला बूस्टर लेकर आए थे, तब से मैक्रोइकोनॉमिक कंडिशन बिगड़ती जा रही है. इस दौरान दुनिया भर की अर्थव्यवस्था में सबसे बुरी मंदी देखी जा सकती है. दुनिया को 9 ट्रिलियन डॉलर के नुकसान होने की आशंका है जो जापान और जर्मनी जैसे कई विकसित देशों की अर्थव्यवस्था के बराबर है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर ने कहा कि भारत जी 20 अर्थव्यवस्ता में सबसे ज्यादा ग्रोथ वाला देश हो सकता है जैसा कि IMF ने कहा है. गवर्नर ने कहा, हम पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर नजर रख रहे हैं. भारत के हालात दूसरों से बेहतर हैं. वैश्विक मंदी के अनुमान के बीच भारत की विकास दर अब भी पॉजिटिव रहने का अनुमान है और यह 1.9 प्रतिशत रहेगी. उन्होंने कहा कि 2020 में अच्छे मॉनसून का अनुमान लगाया गया है. इससे अर्थव्यवस्था को गति मिल सकती है. भारत की अब भी ग्रामीण अर्थव्यवस्था आगे बढ़ रही है.

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि वित्तीय नुकसान को कम करने की कोशिश की जा रही है. कैश की कमी नहीं होने दी जाएगी. देश में 91 फीसदी एटीएम काम कर रहे हैं. हमारे डेटा दिखाते हैं कि इंटरनेट बैंकिंग से अच्छा काम हो रहा है. बैंक अच्छा काम कर रहे हैं और चुनौतियों के बावजूद एटीएम का भी अच्छा संचालन किया जा रहा है.

आरबीआई गवर्नर ने कहा कि इस संकट के बीच भी कृषि क्षेत्र टिकाऊ है. हमारे पास बफर स्टॉक है. उन्होंने कहा कि इस साल मॉनसून की बारिश अच्छा रहने का अनुमान है, फरवरी में ट्रैक्टर की बिक्री में अच्छी बढ़त हुई थी. उन्होंने कहा कि मार्च 2020 में निर्यात में भारी गिरावट आई है, इसके बावजूद विदेशी मुद्रा भंडार 476 अरब डॉलर का है जो 11 महीने के आयात के लिए काफी है. दुनिया में कच्चे तेल के दाम लगातार घट रहे हैं, जिससे फायदा हो सकता है.

Next Story
Share it
Top