Top
undefined

इतिहास में पहली बार अमेरिकी क्रूड की कीमतें प्रति बैरल शून्य डॉलर से भी नीचे

इतिहास में पहली बार अमेरिकी क्रूड की कीमतें प्रति बैरल शून्य डॉलर से भी नीचे
X

मुंबई. अमेरिकी फ्यूचर ट्रेडिंग (वायदा कारोबार) में ऑयल की कीमतें गिरकर एक बार शून्य डॉलर प्रति बैरल पर आ गई थीं। आज तक के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब अमेरिकी क्रूड ऑयल का भाव इस स्तर तक नीचे आ गया। हालांकि प्राइस क्रैश के बाद इसमें कुछ सुधार आया। लेकिन यह तेजी बहुत मामूली रही। एनालिस्ट्स ने चेतावनी दी है कि अगले महीने तक क्रूड प्राइस की मुश्किलें और बढ़ेंगी। क्रूड प्राइस गिरने से अमेरिकी ऑयल कंपनियों को प्रोडक्शन बंद करना पड़ सकता है। लिहाजा उनके दिवालिया होने का भी खतरा मंडरा रहा है।

डाउजोंस में 490 अंकों की गिरावट

कोरोनावायरस संक्रमण के कारण दुनिया भर के कई देशों में कामकाज ठप है। डिमांड कम होने के कारण क्रूड की ओवरसप्लाई हो रही है जिसकी वजह से मंगलवार को अमेरिकी क्रूड का फ्यूचर का रेट टूटकर शून्य डॉलर प्रति बैरल तक आ गया था। क्रूड फ्यूचर गिरने से अमेरिकी शेयर बाजार डाउ जोंस (Dow Jones) करीब 490 अंक गिर गया।

क्या रही गिरावट की वजह?

सोमवार को ट्रेडर्स ने मई कॉन्ट्रैक्ट को बेचना शुरू कर दिया जिसकी वजह से क्रूड प्राइस क्रैश हो गया। मई डिलीवरी के लिए अमेरिकी बेंचमार्क वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट क्रूड प्राइस सोमवार को 300 फीसदी से ज्यादा गिर गया। मई कॉन्ट्रैक्ट के लिए क्रूड प्राइस गिरकर -40.32 डॉलर प्रति बैरल तक आ गया था। हालांकि बाद में यह मामूली सुधार के साथ -37.63 डॉलर प्रति बैरल पर सेटल हुआ।

तेल की कीमतों में मंगलवार को हालांकि फिर से उछाल आया जब पहली बार अमेरिका का कच्चा तेल शून्य डॉलर से नीचे कारोबार होने के बाद सकारात्मक मोड़ आया। लेकिन लाभ या उछाल बाज़ार की अनसुलझी चिंताओं के बीच इसलिये सीमित रहा कि यह कोरोनावायरस महामारी से तबाह हुई चीजों से कैसे निपटेगा। मई डिलीवरी के लिए यूएस वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) क्रूड पिछले सत्र में 37.63 डॉलर प्रति बैरल की छूट पर सेटल होने के बाद 38.73 डॉलर से 1.10 डालर प्रति बैरल तक पहुंच गया।

कच्चा तेल के भंडार के लिए नहीं बची है जगह

अमेरिकी तेल का मई का फ्यूचर कांट्रैक्ट समाप्त होने के साथ व्यापारी सोमवार को भाग गए क्योंकि उनके पास कच्चे तेल के व्यापार के लिए कोई जगह नहीं बची थी। लेकिन जून कॉन्ट्रैक्ट $20.43 प्रति बैरल के एक अच्छे खासे स्तर पर सेटल हुआ। ब्रोकिंग फर्म ओण्डा में वरिष्ठ बाजार विश्लेषक एडवर्ड मोया ने तेल की कीमतों के लिए एक कमजोर अवधि की भविष्यवाणी करते हुए कहा कि मांग में आई विनाश अमेरिका की धीमी अर्थव्यवस्था को फिर से खोल सकता है।

दुनिया भर में 30 प्रतिशत गिरी तेल की मांग

कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए यात्रा प्रतिबंधों और लॉकडाउन करने से तेल की कीमतों में गिरावट आई है, जिसमें दुनिया भर में 30 प्रतिशत की मांग कम हो गई है। इसके चलते कच्चे तेल का भंडारण मुश्किल होता जा रहा है। मुख्य अमेरिकी भंडारण हब कुशिंग, ओकलाहोमा, अमेरिका के पश्चिम टेक्सास इंटरमीडिएट का कॉन्ट्रैक्ट अब सप्ताह के भीतर पूरा होने की उम्मीद है। सिडनी में सीएमसी मार्केट्स के मुख्य बाजार रणनीतिकार माइकल मैककार्थी ने कहा, आज यह बहुत स्पष्ट है कि बाजार में एक प्रमुख मुद्दा संयुक्त राज्य अमेरिका में सप्लाई की भरमार और भंडारण क्षमता की कमी है।

क्या है निगेटिव प्राइस का अर्थ

निगेटिव प्राइस का मतलब है कि कांट्रैक्ट को पकड़े निवेशक तेल की डिलीवरी लेने के लिए और भंडारण की लागत उठाने को तैयार नहीं थे। निवेशकों को क्रूड को समाप्त करने के लिए लोगों को भुगतान करना पड़ा। लेकिन क्या कीमतें गिरने का मतलब होगा कि भारत में उपभोक्ता तेल पंपों पर कम भुगतान करेंगे? ज़रुरी नहीं। प्रथम, कच्चे तेल की भारतीय कीमत, जो ओमान, दुबई और ब्रेंट क्रूड का औसत है, की लागत 17 अप्रैल को 20.56 डॉलर प्रति बैरल पर थी। भारत में पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें वैश्विक बाजारों में इन ईंधनों की कीमत से जुड़ी हुई हैं, न कि कच्चे तेल की। इसलिए जब ये उत्पाद की कीमतें बंद होंगी, तभी भारत में पंप की कीमतों पर कुछ प्रभाव देखने को मिलेगा।

Next Story
Share it
Top