Top
undefined

सोना आपके लिए है फायदे का सौदा, जानिए कैसै करें इसमें निवेश

सोना आपके लिए है फायदे का सौदा, जानिए कैसै करें इसमें निवेश
X

नई दिल्ली। साल 2019 और 2020 में लोगों ने निवेश पोर्टफोलियो में Gold का काफी ज्यादा तरजीह दी है। सोने ने पिछले एक साल में लगभग 42 फीसद का रिटर्न दिया है। निकट भविष्य में सोने की कीमत में वृद्धि जारी रहने की संभावना है, क्योंकि COVID-19 के प्रकोप की वजह से देर तक अनिश्चितता का माहौल बना रहेगा और वैश्विक विकास में कमी आने तक ब्याज दरें कम रहने की संभावना है। ये दोनों चीजें सोने में निवेश के लिए बहुत अच्छी हैं। विश्लेषकों का इस मामले में कहना है कि सोना हर निवेश पोर्टफोलियो का हिस्सा होना चाहिए और अपने पोर्टफोलियो का 10-15% हिस्सा गोल्ड में निवेश करना चाहिए। यदि आपके पास सोने का इतना एक्सपोजर नहीं है तो आप इसको अब जोड़ सकते हैं। लेकिन निवेश के लिए भौतिक सोने की खरीदारी से बचें क्योंकि इसमें कई समस्याएं हैं जैस भंडारण लागत, चोरी की संभावना, उच्च लेनदेन लागत, इत्यादि।

इस तरह करें लंबी अवधि के लिए सोने में निवेश

वित्तीय नियोजकों का मानना है कि सोने में निवेश पेपर गोल्ड के रूप में होना चाहिए। गोल्ड ईटीएफ और सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) निवेशकों के लिए दो अच्छे विकल्प हैं।

सोने के वर्तमान मूल्य पर सरकार द्वारा नियमित अंतराल पर SGB जारी किए जाते हैं। इसकी आठ साल की निश्चित अवधि है, लेकिन पांच साल के लॉक-इन के बाद इसको बेच सकते है। हालांकि, यदि आप मैच्योरिटी तक SGB रखते हैं, तो इसके निवेश पर कोई कैपिटल गेन टैक्स नहीं लगता है। तीन साल के निवेश के बाद अर्जित गोल्ड ईटीएफ या गोल्ड फंड कैपिटल गेन्स पर इंडेक्सेशन के बाद 20% टैक्स लगता है।

Gold ETF में सोने के मूल्य में होने वाला मूल्यह्रास आपकी एकमात्र आय है लेकिन एसजीबी में आपको सालाना 2.5% का ब्याज मिलेगा, जिसका भुगतान छह महीने में किया जाएगा। हालांकि, यह ब्याज आय आयकर के अधीन आता है।

गोल्ड ईटीएफ पर एसजीबी का एक और फायदा यह भी है कि गोल्ड फंड्स फंड मैनेजमेंट चार्ज के लिए सालाना 0.5-1% का लेवी चार्ज वसूल करते हैं लेकिन एसजीबी के मामले में ऐसा कोई चार्ज नहीं है। सेकेंडरी मार्केट में SGB को कोई भी बेच सकता है। लेकिन कम मात्रा की वजह, आपको अपनी इच्छा के मुताबिक कीमत नहीं मिल सकती है। इस साल, केंद्र ने अभी तक SGBs के तीन किस्तों का शुभारंभ किया है। अगले नौ महीनों में तीन किस्तें और इसकी निकाली जाएंगी।

विशेषज्ञों का मानना है कि जो लोग नियमित रूप से व्यवस्थित निवेश योजना (SIP) के रूप में सोने में निवेश करना चाहते हैं, उनके लिए गोल्ड ईटीएफ सबसे अच्छा विकल्प है।

Next Story
Share it
Top