Top
undefined

एअर इंडिया ने दी सुविधा, लॉकडाउन में कैंसल फ्लाइट की टिकट पर दूसरे यात्री भी कर सकते हैं यात्रा

एअर इंडिया ने दी सुविधा, लॉकडाउन में कैंसल फ्लाइट की टिकट पर दूसरे यात्री भी कर सकते हैं यात्रा
X

नई दिल्ली। एअर इंडिया ने कोविड-19 की वजह से रद्द फ्लाइट्स के टिकट में अब यात्रियों को नई सुविधा दी है। एअर इंडिया ने एक नए सर्कुलर में कहा है कि यात्री चाहें तो अब टिकट पर नए यात्री का नाम डाल सकते हैं। यानी पहले के यात्रियों की बजाय अब दूसरे यात्री उस टिकट पर यात्रा कर सकते हैं। यह सुविधा 15 मार्च से 24 अगस्त तक जारी रहेगी। एयरलाइन ने कहा कि यह छूट पिछली छूट के अलावा है। पिछली छूट में कंपनी की तरफ से बिना किसी अतिरिक्त चार्ज के यात्रा तारीख रिशेड्यूलिंग करवाने की अनुमति दी गई थी।

नाम चेंज पॉलिसी के बारे में जानिए

कंपनी के सर्कुलर के मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान बुक की गई टिकट पर यात्री टिकट को री-इश्यू करा सकते हैं और अगर वे खुद यात्रा नहीं करना चाहते हैं तो वह अपने बुक टिकट को बाद की तारीख में ट्रैवल के लिए किसी अन्य के नाम को दे सकते हैं।

सर्कुलर के मुताबिक, कंपनी की इस स्कीम में कुछ शर्तों को रखा गया है-

यह सुविधा सिर्फ घरेलू फ्लाइट्स के लिए है

इस सुविधा का लाभ सिर्फ उन्हीं पैसेंजर को मिलेगा जो कि एअर इंडिया की सिटी बुकिंग ऑफिस से टिकट बुक कराया है।

फिलहाल यह नाम चेंज पॉलिसी सिर्फ छह मेट्रो सिटी के लिए ही उपलब्ध है। इसमें मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद, बेंगलुरू, कोलकाता और चेन्नई शामिल हैं।

इस स्कीम में वे टिकट कवर होंगे जिनका भुगतान कैश और क्रेडिट कार्ड के जरिए किया गया होगा।

इस सुविधा का लाभ उन्हीं को मिलेगा जो 31 दिसंबर 2021 से पहले टिकट बुक करेंगे और यात्रा भी इसी अवधि के बीच पूरी करनी होगी।

देश में एअर इंडिया इस तरह की पहली फ्लाइट है, जिसने यह सुविधा उपलब्ध कराई है। साथ ही एअर इंडिया के यात्री अपनी रूट को भी बदल सकते हैं।

यह विकल्प पहली रिफंड पॉलिसी के तहत किया गया है

बता दें कि 23 मार्च से देश में लॉकडाउन शुरू हुआ था और उसके बाद फ्लाइट्स का भी ऑपरेशन बंद कर दिया गया था। शुरू में यात्रियों को पहले उसी रूट पर टिकट बुक करने की सुविधा थी, पर बाद में इसमें छूट दे दी गई। अनुमान के मुताबिक एअर इंडिया की रद्द फ्लाइट के टिकटों का मूल्य करीबन 500 करोड़ रुपए है और इसमें से 70-80 प्रतिशत यात्रियों ने रिफंड का विकल्प भी ले लिया है। यह विकल्प पहली रिफंड पॉलिसी के तहत किया गया है।

Next Story
Share it
Top