Top
undefined

भारत में अगले महीने खुलेगा एपल का ऑनलाइन स्टोर, अभी थर्ड पार्टी के जरिए होती है आईफोन और अन्य उत्पादों की बिक्री

भारत में अगले महीने खुलेगा एपल का ऑनलाइन स्टोर, अभी थर्ड पार्टी के जरिए होती है आईफोन और अन्य उत्पादों की बिक्री
X

नई दिल्ली। आईफोन बनाने वाली दिग्गज अमेरिकी कंपनी एपल इंक सितंबर से शुरू हो रहे भारत के फैस्टिव सीजन को भुनाने की तैयारी कर रही है। इसके लिए एपल अगले महीने अपना ऑनलाइन स्टोर लॉन्च कर सकती है। इस मामले से वाकिफ सूत्रों के हवाले से ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में कहा गया है कि एपल का ऑनलाइन स्टोर दिवाली से पहले ऑपरेशन में आ जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि दिवाली का फेस्टिव सीजन देश में सबसे ज्यादा खरीदारी के लिए माना जाता है।

अभी थर्ड पार्टी के जरिए होती है एपल के उत्पादों की बिक्री

एपल के आईफोन या अन्य उत्पाद अभी भी देश में मिलते हैं। लेकिन इन उत्पादों की बिक्री थर्ड पार्टी वेंडर या अमेजन-फ्लिपकार्ट जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए की जाती है। इस साल की शुरुआत में एपल के सीईओ टिम कुक ने कहा था कि भारत में एपल का पहला रिटेल स्टोर 2021 में खुल सकता है। कुक ने कहा था कि भारत में 100 करोड़ से ज्यादा मोबाइल फोन यूजर हैं। इसमें से एक तिहाई यूजर बेसिक मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में भारत में स्मार्टफोन मेकर्स के लिए काफी संभावनाएं हैं। इसके अलावा सस्ता श्रम भी मोबाइल फोन के निर्माण के लिए उपलब्ध है।

भारत में भी आईफोन का निर्माण शुरू

एपल बीते काफी समय से भारतीय बाजार पर फोकस कर रही है। यही कारण है कि एपल ने भारत में आईफोन का निर्माण शुरू कर दिया है। अभी भारत में आईफोन-11 समेत कई अन्य मॉडल का भी निर्माण हो रहा है। इन आईफोन का निर्माण एपल की असेंबली पार्टनर फॉक्सकॉन और विस्ट्रॉन के प्लांट में किया जा रहा है। दोनों कंपनियों ने दक्षिण भारत में अपने प्लांट लगाए हैं।

पेगाट्रॉन भी लगाएगी भारत में प्लांट

एपल की एक और असेंबली पार्टनर पेगाट्रॉन भी चीन को छोड़कर भारत में प्लांट लगाने की योजना बना रही है। हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, पेगाट्रॉन भी दक्षिण भारत में प्लांट लगाने की संभावना तलाश रही है। पेगाट्रॉन ताइवान की कंपनी है और यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आईफोन असेंबलर है। पेगाट्रॉन का आधे से ज्यादा कारोबार एपल पर निर्भर है। पेगाट्रॉन आईफोन एसई की असेंबलिंग करती है।

ऑनलाइन स्टोर खुलने से सस्ते हो सकते हैं आईफोन

जानकारों के मुताबिक, कंपनियां अपने उत्पाद बेचने के लिए थर्ड पार्टी वेंडर या ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म को भारी-भरकम कमीशन देती हैं। अपने ऑनलाइन स्टोर से इस कमीशन की बचत होती है। कंपनियां इस बचत का फायदा कीमतों में कमी करके सीधे ग्राहकों को भी देती हैं। अब यदि एपल का ऑनलाइन स्टोर भी खुल जाता है तो इस कदम से भारत में आईफोन समेत अन्य उत्पाद सस्ते हो सकते हैं।

Next Story
Share it
Top