Top
undefined

पेट्रोल की कीमत में 17 पैसा और डीजल की कीमत में 22 पैसा प्रति लीटर की बढ़त

पेट्रोल की कीमत में 17 पैसा और डीजल की कीमत में 22 पैसा प्रति लीटर की बढ़त
X

मुंबई। करीबन दो महीने बाद ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (OMC) ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर से आज बढ़ोत्तरी कर दी है। पेट्रोल की कीमत में 17 पैसा प्रति लीटर का इजाफा किया गया है। अब दिल्ली में इसकी कीमत 81.23 रुपए प्रति लीटर हो गई है। एक दिन पहले यह 81.06 रुपए पर थी। इसी तरह डीजल की रिटेल कीमत 22 पैसा बढ़कर 70.68 रुपए प्रति लीटर हो गई है।

दो महीने तक नहीं बढ़ी थी कीमतें

बता दें कि कोरोना में पिछले करीबन दो महीनों से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बढ़त नहीं हुई थी। हालांकि भारत विदेशों से जो तेल इस दौरान खरीदता रहा है,उसकी कीमतों में लगातार उतार-चढ़ाव होता रहा है। पर यह बहुत ही आश्चर्यजनक है कि देश में तेल की कीमतों में 2 महीनों से कोई बलाव नहीं हुआ। दरअसल क्रूड की कीमतों में एक डॉलर का भी इजाफा होता है तो इसका सीधा असर पेट्रोल और डीजल की रिटेल कीमतों पर पड़ता है।

एक डॉलर की बढ़त से 40 पैसा का प्रति लीटर असर

क्रूड की कीमत में अगर एक डॉलर का इजाफा होता है तो पेट्रोल और डीजल की कीमत में 40 पैसा प्रति लीटर का इजाफा होता है। इसका मतलब यह है कि ईंधन की कीमतें पिछले दो महीनों के आधार पर 1.20 रुपए प्रति लीटर बढ़नी चाहिए थी। हालांकि ऑयल कंपनियों ने ईंधन की कीमतों को स्थिर ही रखा है। खासकर तब जब वैश्विक स्तर पर क्रूड की कीमतें पिछले महीने कम हुई थीं। इस वजह से पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ाने से ऑयल कंपनियां बचती रही हैं।

अब फिर से कीमतें बढ़नी शुरू हो सकती हैं

अब ऐसा संकेत है कि रोजाना आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर से सुधार शुरू हो सकता है। हालांकि कीमतों में उतार-चढ़ाव अलग-अलग शहरों में अलग-अलग हो सकती हैं। मुंबई, दिल्ली, कोलकाता या कहीं भी आपको डीजल और पेट्रोल की कीमतों में थोड़ा बहुत अंतर मिल सकता है। डीजल और पेट्रोल की कीमतों में बढ़त का संकेत पहले ही मिल चुका था, क्योंकि वैश्विक ऑयल मार्केट में कोरोना की दवा आने की खबरों से तेलों की कीमतें बढ़ने का अनुमान है।

तेल की मांग बढ़ रही है

हालांकि ज्यादा खपत वाले बाजारों में तेल की मांग बढ़ रही है और इन्वेंटरी लेवल कम हो रहा है। ब्रेंड क्रूड की कीमत 44 डॉलर प्रति बैरल तक हाल में जा चुकी थीं। जबकि अमेरिकी डब्ल्यूटीआई क्रूड भी 42 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया था। हालांकि दोनों की कीमतें इस महीने की शुरुआत से अभी तक स्थिर हैं। अक्टूबर में यह 40 डॉलर के करीब थीं।

Next Story
Share it
Top