Top
undefined

आर्थिक रिकवरी के संकेत: कोविड-19 से पहले के स्तर पर पहुंची पेट्रोल की मांग, डीजल की खपत में कमी जारी

आर्थिक रिकवरी के संकेत: कोविड-19 से पहले के स्तर पर पहुंची पेट्रोल की मांग, डीजल की खपत में कमी जारी
X

नई दिल्ली। कोविड-19 के कारण ठप पड़ी आर्थिक गतिविधियों में धीरे-धीरे तेजी आने लगी है। पेट्रोल-डीजल की बिक्री से इसका संकेत मिला है। इंडस्ट्री के प्रारंभिक डाटा के मुताबिक, सितंबर के पहले हाफ में पेट्रोल की बिक्री कोविड-19 से पहले के स्तर पर पहुंच गई है। मार्च में कोविड-19 संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़ी थी। इसके बाद सरकार ने मार्च के अंत में देशव्यापी लॉकडाउन लगा दिया था।

सितंबर के पहले हाफ में पेट्रोल की बिक्री 2.2% बढ़ी

डाटा के मुताबिक, एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले सितंबर के पहले हाफ यानी 1 से 15 सितंबर के बीच पेट्रोल की बिक्री में 2.2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। पिछले महीने अगस्त के मुकाबले बिक्री में 7 फीसदी का इजाफा हुआ है। वहीं, डीजल की बिक्री में गिरावट का दौर जारी है। एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले सितंबर के पहले हाफ में डीजल की बिक्री में 6 फीसदी की गिरावट रही है। हालांकि, अगस्त 2020 के मुकाबले 19.3 फीसदी की बढ़ोतरी रही है।

25 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन के बाद यह पहला मौका है जब देश में पेट्रोल की बिक्री बढ़ी है। सितंबर के पहले हाफ में कुल 9.65 लाख टन पेट्रोल की बिक्री हुई है। एक साल पहले समान अवधि में 9.45 लाख टन पेट्रोल की बिक्री हुई थी। वहीं, अगस्त 2020 के पहले हाफ में 9 लाख टन पेट्रोल की बिक्री हुई थी। देश में सबसे ज्यादा खपत वाले फ्यूल डीजल की बिक्री सितंबर के पहले हाफ में 2.13 मिलियन टन रही है। एक साल पहले समान अवधि में 2.25 मिलियन टन डीजल की बिक्री हुई थी। अगस्त 2020 के पहले हाफ में 1.78 मिलियन टन डीजल की बिक्री रही थी।

स्थानीय लॉकडाउन से प्रभावित हो रही बिक्री

इंडस्ट्री से जुड़े सूत्रों का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान लगाए गए प्रतिबंधों के जून से हटने के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था सुधार की राह पर चल पड़ी है। लेकिन राज्यों की ओर से लगाए जा रहे स्थानीय लॉकडाउन के कारण पेट्रोल-डीजल समेत अन्य फ्यूल की मांग प्रभावित हो रही है। सूत्रों के मुताबिक, लोग आवाजाही के लिए सार्वजनिक वाहनों के बजाए प्राइवेट वाहनों को प्राथमिकता दे रहे हैं। इस कारण पेट्रोल की बिक्री बढ़ी है।

जेट फ्यूल की बिक्री में 60% की गिरावट

डाटा के मुताबिक, एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले सितंबर के पहले हाफ में जेट फ्यूल की बिक्री में 60 फीसदी की गिरावट रही है। सितंबर के पहले हाफ में 1.25 लाख टन जेट फ्यूल की बिक्री रही है। अगस्त 2020 के पहले हाफ की 1.03 लाख टन के मुकाबले 15 फीसदी ज्यादा है। एलपीजी की बिक्री में वार्षिक आधार पर 12.5 फीसदी और मासिक आधार पर 13.5 फीसदी की बढ़ोतरी रही है।

Next Story
Share it
Top