Top
undefined

बाजार में सुविधाजनक स्तर पर बनी रहेगी नकदी, आरबीआई ने 20,000 करोड़ रुपए के ओपन मार्केट ऑपरेशन की घोषणा की

बाजार में सुविधाजनक स्तर पर बनी रहेगी नकदी, आरबीआई ने 20,000 करोड़ रुपए के ओपन मार्केट ऑपरेशन की घोषणा की
X

नई दिल्ली। कोरोनावायरस महामारी से जूझ रही अर्थव्यवस्था में सुविधाजनक स्तर पर नकदी बनाए रखने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को आपन मार्केट ऑपरेशंस (ओएमओ) के तहत 20,000 करोड़ रुपए की सरकारी प्रतिभूतियों की खरीद बिक्री करने की घोषणा की। ओएमओ अगले सप्ताह संचालित किया जाएगा, हालांकि इसके लिए अभी तारीख तय नहीं हुई है। आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि आरबीआई सुविधाजनक स्तर पर नकदी बनाए रखेगा और आउटराइट और स्पेशल ओपन मार्केटट ऑपरेशंस के रूप में मार्केट ऑपरेशंस को संचालित करेगा।

उन्होंने कहा कि बाजार से मिले फीडबैक को देखते हुए इन नीलामियों का आकार बढ़ाकर 20,000 करोड़ रुपए किया जाएगा। उम्मीद है बाजार के प्रतिभागी सकारात्मक प्रतिक्रिया दिखाएंगे। दोमाही मौद्रिक नीति समीक्षा में आरबीआई ने मुख्य ब्याज दरों को जस का तस छोड़ दिया और मौद्रिक नीति में नरमी के रुख को भी कायम रखा।

उन्होंने साथ ही कहा कि पहली बार स्टेट डेवलपमेंट लोन (एसडीएल) में भी ओएमओ को अंजाम दिया जाएगा। गवर्नर ने कहा कि एसडीएल को लिक्विड बनाने और बेहतर प्राइसिंग की सुविधा देने के लिए इस कारोबारी साल में स्पेशल केस के रूप में एसडीएल में ओएमओ संचालित करने का फैसला किया गया है। इससे सेकेंडरी मार्केट की एक्टिविटी बढ़ेगी और केंद्र सरकार की समान मैच्योरिटी वाली प्रतिभूतियों के मुकाबले एसडीएल का स्प्रेड तर्कसंगत बनेगा। इन कदमों और हेल्ड टू मैच्योरिटी कैटेगरी (एचटीएम) के मार्च 2022 तक विस्तार से इस कारोबारी साल में कम नकदी और कुल सरकारी कर्ज की एब्जॉर्प्टिव कैपेसिटी से जुड़ी चिंता दूर होने की उम्मीद है।

ब्याज दरें नहीं बदलने की पहले से थी उम्मीद

आरबीआई ने मुख्य ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया। बाजार को पहले से इसकी उम्मीद थी। उसने कोरोनावायरस महामारी से जूझ रही अर्थव्यवस्था को सहारा देने के लिए नरम मौद्रिक नीति को बरकरार रखने का फैसला किया।

Next Story
Share it
Top