Top
undefined

चीन ने भारत के फाइबर ऑप्टिक उत्पादों पर 5 साल के लिए बढ़ाया एंटी डंपिंग टैरिफ, 14 अगस्त से लागू होगी नई दर

चीन ने भारत के फाइबर ऑप्टिक उत्पादों पर 5 साल के लिए बढ़ाया एंटी डंपिंग टैरिफ, 14 अगस्त से लागू होगी नई दर
X

नई दिल्ली। लद्दाख की गलवान घाटी में सीमा विवाद के बाद भारत ने चीनी कंपनियों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। इसके बाद से लगातार चीनी कंपनियां भारत से अपना बोरिया-बिस्तर समेटने लग गई हैं। अब खबर आ रही है कि चीन ने भी भारतीय उत्पादों पर प्रतिकूल कार्रवाई शुरू कर दी है। चीन ने भारत में निर्मित फाइबर ऑप्टिक उत्पादों पर एंटी डंपिंग टैरिफ को फिर से पांच साल के लिए बढ़ा दिया है। चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी है।

अगस्त 2019 में खत्म हुआ था पुराना टैरिफ

वाणिज्य मंत्रालय के मुताबिक, सिंगल मोड ऑप्टिकल फाइबर उत्पादों पर लगाया गया यह दंडात्मक टैरिफ 14 अगस्त 2020 से लागू होगा। नई टैरिफ दरें भारतीय मेन्यूफेक्चरर के मुताबिक, 7.4% से 30.6% के मध्य रहेंगी। चीन ने भारत के फाइबर ऑप्टिक उत्पादों पर पांच साल के लिए एंटी डंपिंग टैरिफ लगाया था, जिसकी अवधि मध्य अगस्त 2019 तक थी। इसके बाद चीन ने एंटी डंपिंग टैरिफ की समीक्षा की है।

चीन की कंपनियों पर भारत में कारोबार पर प्रतिबंध

सीमा विवाद के बाद भारत ने चीन पर शिकंजा कसने के लिए कई प्रकार के प्रतिबंध लगाए हैं। इसमें चीन की कंपनियों के भारत में कामकाज पर रोक भी शामिल है। बीएसएनएल, भारतीय रेलवे समेत कई सरकारी कंपनियों ने कई चीनी कंपनियों के साथ समझौतों को रद्द कर दिया है। सरकार ने कहा है कि भारत के इंफ्रा प्रोजेक्ट में शामिल होने के लिए अब चीनी कंपनियों को पहले गृह मंत्रालय से मंजूरी लेनी होगी।

Next Story
Share it
Top